आखिर क्यों हिन्दू धर्म छोड़कर मुस्लिम बन गए थे ए आर रहमान, ऑस्कर अवार्ड जीतकर बढ़ाई थी भारत की शान

संगीत की दुनिया मे ए आर रहमान को हर कोई जानता है। लेकिन यह बात बहुत ही कम।लोग जानते है कि रहमान का असली नाम दिलीप शेखर है। आज हम आपको दिलीप शेखर से रहमान कैसे बने उनके बारे में बताएंगे। बता दे कि दिलीप शेखर के पिता की

मौ’त लम्बी बी’मारी के बाद हो गई थी। उनका परिवार बहुत ही ज्यादा परेशान रहा करता था। उनकी बहन की भी तबि’यत खरा’ब रहने लगी।इसी बीच उनके परिवार ने इन सब प’रेशा’नी से निकलने के लिए एक मुस्लि’म पीर के पास भी गए। उस पीर ने ऐसा करि’श्मा और दुआ की

उनकी बहन की त’बियत भी सही हो गई।इसी तरह दिलीप की माँ ने इन सब चीजों से प्रभावित होकर इ’स्ला’म कु’बूल कर लिया। इ’स्ला’म के बारे में जानने की कोशिश की। एक बार रहमान की माँ एक ज्योतिष के पास भी गई और कहा की दिलीप अपना नाम बदलना चाहते है। ज्यो’तिषी ने उन्हें दो नाम बताए।

एक अब्दुल रहीम और दूसरा अब्दुल रहमान होना चाहिए। उन्हें रहमान नाम अच्छा लगा। उन्होंने अब्दुल की जगह उसे अ’ल्ला रखा कर लिया और वही से दुनिया को मिला ए आर रहमान। यानी कि अ’ल्ला रहीम रह’मान। नसरीन मुन्नी कबीर की

किताब एआर रहमान द स्पिरिट ऑफ म्यूजिक में रहमान कहते है कि एक हिन्दू ज्योतिष ने मुझे मु’स्लि’म बना दिया था। इस तरह से दिलीप से रहमान बने थे। आज उन्होंने बहुत से सांग जनता को।दिए है। जो बहुत ही ज्यादा प्रसिद्ध भी है।

Leave a Comment