असदुद्दीन ओवैसी का बिहार प्लान, सीमांचल पर है निगाहें, जानिए ओवैसी कैसे फतेह करेंगे बिहार

बिहार की सियासत में असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी ऑल इंडिया मजलिस ए एतेहादुल मुस्लिमिंन अपने पैर जमाने की कोशिश कर रही है। बिहार में विधानसभा चुनाव की घोषणा से पहले ओवैसी की पार्टी की बिहार यूनिट ने तेज तर्रार चुनाव प्रचार काम करना शुरू कर दिया । एआईएमआईएम ने विधानसभा चुनाव के लिए बिहार के 22 जिलों में 32 सीटों को चिन्हित किया है।

इसकी लिस्ट में जारी कर दी है। इसके साथ ही ओवेसी की पार्टी ने बिहार में समान विचारधारा वाले दलों के साथ गठबंधन करने के संकेत भी दिए है। एआईएमआईएम के बिहार प्रदेश के अध्यक्ष अख्तर उलेमान ने प्रदेश की 243 विधानसभा सीटों में से 32 सीटों को चिन्हित किया है। जिस पर पार्टी अपने केन्डिडेड को उतारेगी।

अख्तरुल इमान ने कहा है कि हम इस बार सभी सीटों पर चुनाव लड़ने की तैयारी कर रहे है। इस कड़ी में हम पहले 32 सीटो पर लड़ने का एलान कर रहे है औऱ जल्द ही बाकी सीटो का भी एलान कर देंगे।बता दे कि इन 32 सीटों में से 2 सीटे आरक्षित है बाकी सीटे सामान्य जाती की है। इनमें से ज्यादतर सीटें मुस्लिम की है। ओवेसी की पार्टी ने कटिहार जिले की बलरामपुरी, करारी, कदवा तो पूर्णिमा जिले की अमोरी बयासी सीट का एलान किया है।

बिहार में ओवैसी की पार्टी ने पिछले साल उपचुनाव में अपना खाता खोलने में कामयाब रही थी। लोक सभा चुनाव के बाद बिहार के किशनगंज सीट पर हुए चुनाव में उनकी पार्टी के उम्मीदवार कमरुल होदा ने अपनी जीत हासिल की थी। इसका असर सीमांचल पर दिख रहा है।

Leave a Comment