ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती के खिलाफ टिप्पणी, न्यूज़ एंकर को सुप्रीम कोर्ट से बड़ा झटका, जानिए

सूफी संत ख्वाजा गरीब नवाज पर आ’प’त्ति’जनक टि’प्प’णी करने वाले न्यूज़ एंकर अमिश दे’वगन पर ‘उ’च्चतम न्या’यलय ने सोमवार को सुनवाई की । अमर उजाला में छपी खबर के अनुसार सूफी संत हज़रत ख्वाजा गरीब नवाज के खि’ला’फ कथित रूप से आ’पत्तिज’नक टिप्प’णी करने के मामले में।न्यूज़ एंकर अमिश देशगन के वि’रुद्ध द’र्ज प्रा’थमि’की को अ’दाल’त ने र’द्द करने से इ’न’का’र कर दिया ।

अदा’ल’त ने न्यू’ज़ एं’कर द्वारा जां’च में स’हयोग करने की स्थति में उन्हें ब’ल”पू’र्वक कार्य’वा’ही से संर’क्ष’ण को मंजूरी दे दी । हालांकि न्याय’मुर्ति एएम खान’विलकर और संजीव खन्ना की पीठ ने इस पूरे मामले को राजस्थान के अजमेर में शिफ्ट करने का आदे’श दिया है ।

ajmer news

बता दे, न्यूज़ एंकर के खिला’फ सूफी संत के चाहने वालो ने राजस्थान, एमपी , उत्तरप्रदेश , महाराष्ट्र , तेलंगाना में सात FIR दर्ज की गई है ।उन्होंने 15 जून को प्रसारित प्राइम टाइम में सूफी संत के खि’ला’फ अ’प’मा’नजन’क भाषा का इस्तेमाल किया था उंसके बाद उनके खि’ला’फ कई राज्यो में FIR की गई ।

सुप्रीम कोर्ट ने मामले में दर्ज एफ’आईआर अजमेर में स्था’न्तरित कर दिया है । कोर्ट ने कहा है कि अगर न्यूज़ एंकर अमिश देवगन जां’च में सहयोग करते है तो उनकी गि’र’फ्ता’री से सु’र’क्षा मिलती रहेगी ।

amish devgan

बता दे, सूफी संत ख्वाजा गरीब नवाज का मजार राज्स्थान के अजेमर में स्थित है । यहां पर देश भर से लाखों चाहने वाले उनके दरबार मे हाजिरी लगाते है । यहां लर सभी ध’र्म को ममानने वाले आते है और मन्नत मांगते है ।

Leave a Comment