शरजील को जमानत देते हुए इलाहबाद हाई कोर्ट ने कहा- ना तो उसने किसी को हथियार उठाने को बोला, ना ही ….

इलाहाबाद हाइकोर्ट ने अ’लीगढ़ मु’स्लि’म यूनिव’र्सिटी में सीए ए का’नून के वि’रो’ध में प्रद’र्शन के दौरान दे’श वि’रो’धी भड़’का’ऊ ‘भाष’ण देने के आरो’पी जेनए’यू छात्र श’रजील इमा’म को ज’मा’नत दे दी गई है।शरजी’ल इ’माम की जमा’नत का आदे’श न्या’यमूर्ति ए’सडी सिं’ह ने पा’रित किया है।

बीते दिनों ही इ’ला’हाबाद हा इको’र्ट में पारित अपने आ’देश में कहा है कि श’रजील इ’माम ने किसी को ह’थि’या’र उ’ठाने के लिए नही कहा और न उनके भा’षणों ने हिं’सा भड़’का’ई है। को’र्ट ने अपने आ’देश में कहा है कि यह ध्यान दिया जा सकता है कि नि’र्विवा’द आ’धार पर न तो

allahabad highcourt sharjeel imam bail news 2021

या’चि’कर्ता ने किसी के ह’थि’यार उठाने के लिए कहा और न ही याचि’काक’र्ता द्वारा दिए गए भा’ष’ण के परिणा’मस्व’रूप कोई हिंसा भ’ड़’का’ई गई।यह पूरा मामला 16 जनवरी 2020 को ना’गरि’कता सं”सोधन अधि’नियम के वि’रो’ध में अ’लीगढ़ मुस्लि’म यूनि’वर्सिटी परिसर में

दिए गए शरजी’ल इ’माम के भा’ष’ण से जुड़ा हुआ है। शर’जी’ल के खि’ला’फ अलीग’ढ़ में भार’तीय दं’ड सहिं’ता की धारा 124 ए,153ए, 153 बी और 505 2 के तह’त कुल 4 मा’मले दर्ज किए गए थे। इमाम के व’कील ने दली’ल देते हुए कहा है कि शर’जील ने वहां

allahabad highcourt sharjeel imam bail news 2021

मौजूद लोगों को ह’थि’यार उठा’ने यह हिं’स’क गति’विधि’यों में शमि’ल होने के लिए उकसा’या न’ही था। जिसने देश की अखं’डता और एक’ता को ख’त’रे में डाला हो या किसी समुदा’य के खि’ला’फ घृ’णा फै’ला’ने का जैसा को’ई का’म कि’या हो।

Leave a Comment