अनीसा बानो का चैलेंजर क्रिकेट ट्रॉफी-19 में चयन, कभी पढाई के साथ चराया करती थी बकरियाँ और …

इंसान की जिंदगी में कब किस्मत का जोर पकड़ने लजे तो कोई भी चीज उसके आड़े नही आ सकती है। ऐसे ही एक मामला राजस्थान के3 बाड़मेर जिले के शिव कस्बे छोटे से गांव की निवासी अनीसा बानो है। जिनका बीते दिनों ही चैलेंजर क्रिके ट्रॉफी-19 में चयन हुआ है।

जयपुर के सवाई मानसिह स्टेडियम में हुए ट्रायल ये बाद उनका सलेक्शन बतौर गेंदबाज किया गया।अनीसा अल्पसंख्यक समुदाय की पहलीं बेटी ह। जिसका क्रिकेट में राज्य स्तरीय टीम में चयन हुआ है। अनीसा के पिता याकूब खान पेशे से अधिकवक्ता है।

वह बताते है कि अनीसा ने अपने बल पर इस मुकाम को हासिल किया है। वह अपने स्कूल से लौटकर भेड बकरियां चराने निकल जाती थी। बचपन से ही वह क्रिकेट खेलेने का शौक होने की वजह से खेत में वह अकेली ही गेंदबाजी की प्रैक्टिस करती रहती थीं

बता दे कि आठवी में पढ़ते हुए अनीसा ने क्रिकेट खेलना शुरू किया और बारहवीं में पढ़ते हुए चैलेंजर क्रिकेट ट्रॉफी अंडर -19 में चयन हो गया। अनीसा के क्रिकेट के प्रति दीवानगी का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि गांव में जब कभी लड़को का मैच होता है तो

वह पास बैठकर पूरा खेल देखती थी। गांव के लोग अनीसा को ताने भी मारे करते थे लेकिन अनीसा क्रिकेट छोड़ने को तैयार नही हुई। उन्होंने अपने लग्न से जीत को दर्ज किया है। आज गांव के लोग उनको सम्मान दे रहे है।

Leave a Comment