सलाम: अज़ीम प्रेमजी के बेटे ने जीता दिल, अपनी विप्रो कम्पनी का ऑफिस 450 बेड वाले कोरोना अस्पताल में तब्दिल कराया, सीएम ने कहा …

को’रो’ना वा’इ’र’स से हर देश और हर एक जिला अछू’ता नही रहा है। को’रो’ना की वजह से कई लोग मदद के लिए आगे आए भी है और कई लोग अभी तक भी मदद को आगे आ रहे है। महारष्ट्र में को’रो’ना के सबसे अधिक मामले सामने आए है। इस मुश्किल दौर में म’हा’राष्ट्र सरकार की मदद करने के लिए सामने आई है विप्रो की आईटी कंपनी। उन्होंने अपने पुणे के दफ्तर को ही एक अ’स्प’ता’ल में बदल दिया है।

450 बेड वाला ये अ’स्प’ता’ल केवल को’विड 19 के म’री’जो के लिए है। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार विप्रो कंपनी ने जानकारी दी है कि उनका महाराष्ट्र सरकार से समझौता हुआ है। उनके हिंजवड़ी इलाके के केम्पस को एक 450 बेड वाले अस्पताल में तब्दील कर दिया गया है। इस अस्पताल का उद्धघाटन महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्यव ठाकरे ने ऑनलाइन बातचीत के जरिए ही किया था।

ये एक पब्लिक प्राइवेट अ’स्प’ताल है जहां पर सभी मरी’जो को कहानी लेकर हर तरह की सुवि’धाओं मुहैया कराई जाएगी।जिला प्र’शा’सन के मुताबिक बताया गया है कि इस अ’स्प’ता’ल को लगभग 504 बेड वाला अ’स्प’ता’ल तक ले जाया सकता है। यहां पर ज्यादातर उन म’री’जो को रखा जाएगा जिन्हें मॉ’डरेट केयर की जरूरत है।

विप्रो ने खुद ही देश के कई इलाकों में राहत कार्य भी शुरू किए थे। इससे अब तक 34 लाख लोगों को फायदा पहुँचाया जा चुका है।

महारष्ट्र में को’रो’ना के म’री’जो का आं’क’ड़ा ब’ढ़’ता जा रहा है। स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक अकेले महाराष्ट्र में 50 हजार लोगों सं”क्र’मि’त हुए है।

Leave a Comment