गुजरात की जेल से 12 साल बाद बरी हुए बशीर अहमद, माँ बोली- अल्लाह ने मेरी दुआएँ कुबूल कर ली

पेप्सी बॉ’म्बर के रूप में जाने वाले ब’शीर मो’हम्मद कश्मीर के श्रीनगर के रहने वाले है। 12 सालो के बाद न्या’य पाने की ल’ड़ा’ई के बाद अपने ऊपर लगे तमाम आ”रो’पो से ब’री भी हो गए है। गुज’रात के सूरत के एक निच’ली अदा’ल’त ने ब’शीर मोह’म्मद के ऊपर लगे हुए गैर’का’नू’नी ग’ति’विधि अ’धि’निय’म को ह’टा’ते हुए उनको ब’री कर दि’या है।

बशीर मोहम्मफ अब अपने घर भी लौट आए है। साल 2010 में जब उनको गि’र’फ्ता’र किया गया था। श्रीनगर के रै’ना’वा’ड़ी इ’ला’के के रहने वाले 44 वर्षीय बशीर अहमद बाबा को साल 2010 में गुजरात में इस आ’रो’प में हि’रा’स’त में लिया गया था कि वह राज्य में युवाओ की पूरी अवधि के दौरान बाबा ने अपनी बेगु’ना’ही बरकरार भी रखी थी

bashir ahmed gujrat

और अदा’लत को इस बारे में बताया था कि उन्हें उस समय जिस कम्पनी में नि’युक्त किया गया था, उस कम्पनी ने उन्हें क’म्प्यू’टर प्र’ब’न्ध में प्र’शि’क्षण प्राप्त करने के लिए गुजरात भी भेजा था।बता दे कि बशीर अहमद बाबा कहते है किउनका सह’यो’गी गै’र क’श्मी’री’ भी था। उसे तो छो’ड़ दिया गया

लेकिन उनसे इस बारे में पूछताछ होती भी रही।उन्होंने आगे बताया है कि अफसर के बारे में यह भी नही पता था कि वो क्या पूछते है। उन्होंने मेरे से यही कहा कि मुझे कुबू’ल करना चाहिए। दो हफ्ते के बाद ए’टी’एस ने आखिर’कार मेरी

bashir ahmed gujrat

गि’र’फ्ता’री” की भी घोषणा की। कुछ दिनी के बाद मुझे पु’लि’स रि’मां’ड पर बताने के लिए बाबा को न्या’यि’क हि’रा’स’त में जे’ल भी भेज दिया था। उन्हें बड़ोदरा सेंट्र’ल जे’ल में ब’न्द कर दिया गया था।

Leave a Comment