बेगलुर: भूख के खिलाफ खड़े योद्धा का नाम है सैयद गुलाब

जिंदगी के ऐसी कई कहानियां होती है जो दूसरे लोगो को बहुत ही जल्द इंस्पीरेशन कर देती है। ऐसे ही एक मु’स्लि’म स’मुदाय से ताल्लुक रखने वाले सैयद गुलाब है। वह भु’खमरी की हालत को देखकर दुसरो लोगो के लिए मिसाल कायम करने में लगे हुए है।

साल 2016 में एक दोस्त के बच्चचे को देखने के लिए वह बेंगलुरु के किसी हॉ’स्पिटल में गए हुए थे। उन्होंने वहां पर ऐसे कई लोगो को देखा जो भू’ख की हा’लत में थे। वह उसी साल दुबई से काम करने के बाद लौटे थे।आवाज दी वाइस की रिपोर्ट के मु’ताबिक बता दे कि 44 वर्षीय गुलाब बताते है कि जब

मैं अपने दोस्त के बच्चचे को देखने के लिए हॉ’स्पि’टल गया तो मुझे उस बात का एहसास हुआ।इसके बाद मैंने वहां फैसला किया मुझे इन लोगो की मदद के लिए कुछ करना चाहिए और अगले ही रविवार को उन्होंने खाना बनाया और उसे अ’सप्ता’ल ले गया इसके बाद 200 लोगो ने खाना खाया।

उन्होनेआगे बताया कि जब मैं पहली बार खाना बांटने गया तो बहुत से लोग इसे लेने के लिए झिझक रहे थे। मैंने उनको इस बात का विस्वास दिलाया कि मैं मदद करना चाहता हूं। इस काम मे उनकी पत्नी और भाई भी शामिल है।

पिछले कुछ हफ्ते तो उन्होंने घर पर खाना बनाया और मैंने किराया पर एक जगह ली जहाँ हम खाना बनाते थे। पहले हम एक वेन में बर्तनों को खाना लेकर जाते थे और बाटते थे। कोविद के बाद हम दोपहर 12:30बजे वितरण के लिए भोजन पैक करते है।

Leave a Comment