ब्रूस ली से प्रभावित होकर फैसल अली डार ने चुना कुंग-फु चुना, अब पद्श्री अवार्ड लेकर रचा इतिहास

भारत सरकार ने बीते महीने 125 पद्मअवार्ड की घोषणा की थी। इसमें एक नाम कुंग फू मास्टर फैसल अली दार का भी है जो ज’म्मू क’श्मी’र में आ’तं’क के सा’ए वाले इ’लाके से अपनी एकेडमी को चला रहे है। कें’द्र स’रकार ने फैसल अली दार को पद्म श्री अवार्ड से नवाजा था।

इस पर ज’म्मु क’श्मी’र ने उपराज्यपाल ने भी ट्वीट करके उनको बधाई दी. बता दे कि फैसल बचपन से ही ब्रूस ली कि फिल्मों को देखा करते थे। ब्रूस ली एक अमेरिकन मा’र्श’ल आ’र्टि’स्ट है। फैसल के अलावा भी दुनिया मे ब्रूस ली के कई दीवाने है।इसी स्टार से प्र’भा’वि’त होकर फैसल ने कुंग फू चुना

और इसों में अपना करियर बनाया। उन्होंने साल 2003 में कुंग फू सीखना शुरू किया था। पूर्व मर्शल आर्ट्स फैसल अली दार ज’म्मू क’श्मी’र के बांदीपोरा में रहते है। उन्होंने एक एकेडमी को शुरू किया था।जिसमे वर्ल्ड किक बॉक्सिंग तजामुल इ’स्ला’म और करा’टे चै’म्पि’यन हा’शि’म मंसू’र जैसे युवाओं को

प्र’शि’क्षित भी किया गया है। फैसला को भी अपने करियर की शुरुआत में सा’मा’जि’क और रा’ज’नीतिक तौर पर काफी ज्यादा सँघर्ष करना पड़ा था। इस बात को उन्होंने एक इन्टरवू के दौरान कहा था। जब इस क्षेत्र में अ’शा’न्ति रहती थी तब भी उन्होंने ‘प्र’शि’क्ष’ण देना बं’द नही किया।

उन्होंने ‘मु’श्कि’ल हालात में भी एकेडमी चलाते रहने के कारण उनकी हर तरफ तारीफ भी होती रही है। यही वजह है कि खेल और शां’ति में फैसल अली को बीआर अंबेडकर नेशनल अवार्ड भी दिया गया था।

Leave a Comment