16 गोल्ड मेडल अर्जित करने वाली बुशरा बोली, “मैं तज़्जुदगुज़ार नमाज़ी हूं, यह कामयाबी मेरी दुआओं और मेहनत…”

एक न एक दिन सफलता मिल ही जाती है। कर्नाटक की रहने वाली बुश’रा मतीन ने बीते दिनों ही एक साथ 16 गोल्ड मेडल जीतकर नाम रोशन किया है। उन्होंने सभी स’मस्या’ओं का हल सिर्फ तह’ज्जुद न’माज में बताया है। त’हज्जुद में मांगी गई दुआ का फल ही उनको नसी’ब हुआ है।

कर्नाटक की जिला रायचूर की रहने वाली बु’शरा मतीन ने कर्नाटक के विश्वेसरया प्रौद्योगिकी विश्विद्यालय से मान्यता प्राप्त एसएल एन कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग में सिविल इंजीनियरिंग में बैचलर की डिग्री हासिल की। इसमे 16 श्रेणियों में प्रथम स्थान हासि ल करने 16 गोल्ड मेडल जीते है।

10 मार्च को बेलगामी में यूनिवर्सटी में 21 वी दीक्षांत समारोह में लोकसभा स्पीकर ओम बिरला और सूबे के राज्यपाल थावरचंद गहलोत के हाथों बुशरा मतीन को एक साथ 16 गोल्ड मेडल और डिग्री से सम्मानित किया गया है।

बुशरा मतिन का कहना है कि मै अल्लाह की बहुत ही ज्यादा शु’क्रगु’जार हूं जिसने मुझे इतनी बड़ी कामयाबी और सम्मान से नवाजा है। मुझसे ज्यादा खुश मेरे भाई और बहनह। इसकी कामयाबी का क्रेडिट भाई शेख तन्विरुद्दीन को जाता है।

उन्होंने कहा है कि मै न’माज और तह’ज्जुद रोजा’ना पढ़ती हूं।मैंने तहज्जुद के वक्त अपनी कामयाबी कर लिए बहुत दु’आए मां’गी थी। अल्लाह ने मेरी दुआ को कुबूल कर लिया है। यह का’मयाब इन्ही दुआओं का फल है। अपने भाई और बहनों में तीसरे स्थान पर आने वाली रहने वाली बुशरा का कहना है कि मेरा ई’मान है कि नमा’ज सभी समस्याओं का हल है।

Leave a Comment