CAA पर बढ़ी सरकार की मु’श्किलें, शाहीन बाग को मिला इस बड़े सं’गठन का समर्थन, बोले – हम मु’स्लिम मां, बहनों के साथ …

ना’गरिक’ता का’नून को लेकर एक तरफ सरकार अपनी बात पर अड़ी है कि हम यह का’नून वापस नही लेगी तो वही दूसरी तरह दिल्ली के शाहीन बाग में चल रहे प्रो’टेस्ट में महिलाओं ने भी एनडीटीवी के प्रोग्राम में साफ किया था कि जब तक इस ना’गरिकता का’नून को वापस नही लिया जाता है तब तक वो प्रो’टेस्ट जारी रखेगी । इसी बीच शा’हीन बाग के अलावा मुस्तफाबाद, आज़ाद मार्किट सहित दिल्ली की कई जगहों पर 24 घण्टे विरोध प्रदर्शन चल रहा है ।

यहां वि’रोध करने वाले भी अपनी जगह से उठने का नाम नही ले रहे है। उनकी मांगे है कि सरका’र CAA वाप’स नही ले लेती तब तक वो सड़को ओर डटे रहेंगे। इसी बीच शाहीन’बाग से उठा यह वि’रोध देश के अलग अलग हिस्सों में तो फैल ही चुका है। इसी बीच शाही’नबाग से बड़ी खबर आ रही है । बाग को एक फिर बड़ा सम’र्थन मिला है। जैसा कि आप सभी जानते है कि भारत कृषि प्रधान देश है ।

देश मे किसानों की संख्या काफी ज्यादा है । किसानों को देश मे बड़ी शक्ति यानी बड़ी अर्थव्यवस्था देने के रूप में देखा जाता है । अब पंजाब के किसान भी इस विरोध में शामिल हो गए है। जानकारी के अनुसार शाहीनबाग में बैठे हुए लोगो का समर्थन करने के लिए पंजाब से 300 से अधिक किसान शाहीनबाग में पहुँचे है ।

बता दे, सिख लगातार इस प्रो’टेस्ट में सुर्खियां बटौर रहे है, इससे प्रोटे’स्ट कर रहे जामिया और शाहीन बाग के प्रदर्श’नका’रियों के हौसले बढ़े हुए नज़र आ रहे है । इससे मो’दी सर’कार की मुश्कि’लें जरूर ब’ढ़ी होगी । क्योंकि कि’सानों का साथ मिलने से अब यह सम’र्थन और ज्यादा मज’बूत हो जाएगा। किसानों का यह ग्रुप 8 फरवरी तक यहां पर रहेगा।

पंजाब किसान यूनियन के अध्यक्ष रुलडु सिंह मनसा ने बताया कि हम लोग सीए ए और एनआरसी के खिलाफ वि’रोध प्रदर्शन के लिए शाहीनबाग आए है। उन्होंने कहा कि हमारी यह जिम्मेदारी है कि हम मुस्लिम भाई और बहन की लिए खड़े हो। मनसा में 12 फरवरी से अनि’श्चितका’लीन वि’रोध भी शुरू होने की संभावना है।

बता दे, पंजा’ब के यह किसा’न ध’रना स्थल पर ही खाना बना रहे है,लं’गर चला रहा है । इससे पहले बीते महीने में ही सिखों ने शाही’न बाग में लंग’र लगाया था,जो यहां पर आए प्रद’र्शन कारियों को।खाना मुहैय्या कराता है । मिली जानकारी के अनुसार पंजाब से आए सि’खों ने शाहीन बाग प्र’दर्शन स्थ’ल पर ही खाना बनाया । उन्होंने हु’सैनी लं’गर के नाम से जामिया के पास लंगर शुरू किया था ।

जिसमें सभी सि’खों ने खाना बनाया था, सिखों का हाथ बताने के लिए मुस्लि’मों ने भी मदद की थी । पंजाब से आई नानियों ने शाहीन बाग की दादियों से गले मिलकर एकता का संदेश दिया था । इससे साथ होता है कि आने वाले दिनों में सिख रहेंगे और एकता का संदेश देंगे ।

Leave a Comment