सिख भाई ने जीता दिल, लंगर में खाना कम न पड़ जाए कुर्बान कर दी ये क़ीमती चीज़

नाग’रिकता सं’शोधन का’नून के विरो’ध में राजधानी दिल्ली में करीब दर्जन भर जगहों पर 2 महीनों से विरो’ध प्रदर्शन देखने को मिल रहा है। दिल्ली के अलावा देशभर के कई इलाकों और शहरो में यह वि’रोध शुरू हो गया है। इस प्रदर्शन का केंद्र रहे शाहीन बाग पिछले 15 दिसम्बर के बाद से ही सुर्ख़ियो में रह है । शाहीन बाग इस प्रदर्शन का जहा केंद्र बन गया है तो वही इस शाहीन बाग के नाम से कई जगहों पर प्रदर्शन तेज हो गए और लगातार 24 घण्टे प्रदर्शन चल रहे है।

इस प्रदर्शन में सिख समुदाय भी आगे आ रहा है। इनकी काफी तस्वीरे और वीडीओ वाय’रल हुई थी । सिख समुदाय के किसान संग़ठन का एक जत्था फरवरी के पहले सप्ताह में दिल्ली के शा’हीनबाग में विरो’ध के लिए पहुँचा था। सिख समुदाय के इस जत्थे के साथ साथ दिल्ली के ही एक डीएस बिंद्रा भी सुर्ख़ियो में रहे । सि’ख संग’ठनों ने प्रदर्श’नकारि’यों के लिए एक लंगर का इंतेज़ाम किया जो प्रदर्श’का’रियों को भोजन ख़िलाते है।

फरवरी में डीएम बिंद्रा ने एक मीडिया से बातचीत में कहा था कि वो सिखों की परंपरा लंगर बहुत सालों से चली आ रही है। वह इसी परंपरा को आगे बढ़ा रहे है । ख़बर के अनुसार उन्होंने प्रदर्शनकारियों को खाना खिलाने के लिए अपना फ्लेट भी बेच दिया है। सोशल मीडिया पर उनका एक वीडीओ बहुत वा’यर’ल भी हो रही है। बता दे कि बिंद्रा दिल्ली हाईकोर्ट में वकील है। उनका कहना है कि गुरुद्वारा में वो लंगर लगते है।

उन्होंने आगे कहा है कि इससे अच्छा है कि देश के उन लोगो के लिए सेवा की जाए जो संविधान की र’क्षा के लिए लड़ रहे है।डीएस ने खुरेजी और मुस्तफाबाद में लंगर की शुरुआत की थी। उन्होंने कहा है कि वो शाहीनबाग में पूरी जिम्मेदारी के साथ अपना काम सम्भाल रहे है। बिंद्रा ने कहा कि जब हम परिवार के लोग गुरुद्वारा जाते है तो माथा टेकते है और 50 50 रुपए दान में देते है। इससे बेहतर है कि हम मानवता के लिए काम करे।

फ्लैट इसलिए बेच दिया कि लंगर का खर्च उठाने के लिए पैसों की जरूरत थी। इसलिए प्रोपर्टी बेचने का फैसला किया। उन्होंने बताया कि बच्चों की सहमति से हमने यह काम किया है। एक बेटी है जो एमिटी यूनिवर्सिटी से MBA कर रही है। बेटे की मोबाइल की दुकान है। मेरे बच्चों का कहना है कि गुरुद्वारा में दान देने से तो अच्छा है की शाहीनबाग में प्रदर्शन करने वाले लोगो के लिए खाने का इंतजाम किया जाए।

Leave a Comment