एर्दोगन ने 500 साल पुरानी मस्जिद को दूबारा किया ओपन, इसी मस्जिद में मनाया गया था उस्मानियों की कुस्तुनतुनियां पर जश्न

तु’र्की हमेशा से दुनिया भर के मु’स्लि’मों की मदद के लिए आगे आता रहा है। ए’र्दो’गा’न जिस प्रकार मदद करते है उसी प्रकार सेवहा के लोग उनकी तारी’फ करते नही थकते है । तुर्की ने को’रो’ना वा’इ’रस के खि’ला’फ़ कई तरह की सहा’यता भी प्रदान कि थी। तुर्की के राष्ट्रपति रेसेप तैयब ए’र्दो’गान ने कहा है कि एथेंस में एक भी म’स्जि’द में नही है। उन्होंने आगे कहा कि सभी म’स्जि’दों को नष्ट कर दिया गया है।

राजधानी एथेंस में जब ओ’टोमन साम्राज्य से मुक्त हुई तब से वहां पर औ’पचा’रिक म’स्जिद नही थी।उन्होंने आगे कहा कि हमारी म’स्जि’दे और स्मारक उन जगहों पर है जहाँ हमे कुछ समय पहले एक शताब्दी में जाना पड़ा था। इस्तांबुल में डॉ इस्माइल नियाजी अस्पताल के उद्धघाटन समारोह के दौरान कहते हुए ए’र्दोगान ने कहा हमारे पूर्वजो ने जीत न केवल जमीनी जगह पर पाई है बल्कि दिलो पर भी जीत हासिल की है।

उन्होंने कहा कि हगिया सोफिया को मु’स्लि’मो की सेवा के लिए खोला गया था। उन्होंने जोर देकर कहा कि पिछले 18 सालों के दौरान, तु’र्की ने अपने भूगोलकी सभी विरासतों की र’क्षा की है और न केवल अपने पूर्वजों की विरासत की र’क्षा की है।उन्होंने बताया जब हम सत्ता में आए तो हमने देखा कि केवल 460 इमारतों को बहाल किया गया है। पिछले 18 वर्षों में हमने 5,060 इमा’रतों को ब’हाल किया है। उन्हें हमारे देश और मान’वता के सेवा में प्रस्तुत किया गया है।

तुर्की के इस्तंबूल में स्थित हगिया सोफिया दुनिया की सबसे पुरानी इ’मा’र’तों में से एक है। तुर्की में पूर्वी रोमन साम्राज्य के शासनकाल को स्वर्णयुग माना जाता है। तुर्की में मध्य एशियाई सुल्तानों का शासन काल 13 वी सदी के अंत मे शुरू हुआ था। जब सुल्तानों की नजर हगिया सोफिया पर नजर गई तो उन्होंने इसे म’स्जिद बनाने का फैसला किया।

Leave a Comment