डॉयरेक्टर फराह खान का खुलासा, मैंने तय किया था कि मु’सलमानों को फिल्मों में वि’लेन …

डॉयरेक्टर, एक्ट्रेस, शो जज के तौर पर फराह खान ने साल 2004 में बॉलीवुड में एंट्री की । अब उन्होंने फ़िल्म मैं हु ना को लेकर बयान दिया है जो बहुत चर्चे में है। फराह ने कहा है कि वो नही चाहती थी कि फ़िल्म का विलन कोई मुसलमान बने। उन्होंने जानबूझकर फ़िल्म मे सुनील शेट्टी के सबसे खास साथी का सरनेम खान रखा था जो की मुसलमान है।

वो फ़िल्म में मेजर राम प्रसाद शर्मा को जानकारी देकर खलनायक से नायक बनता दिखता है।इस बयान को लेकर सोशल मीडिया पर विवाद बढ़ रहा है। फराह को लोग ट्रोल कर रहे है। इस फ़िल्म मे दिखाया गया था कि कुछ लोग भारत और पाकिस्तान के बीच रिश्ते को बिगाड़ने की कोशिश कर रहे है।

फ़िल्म में मुख्य विलेन के किरदार में सुनील का नाम राघवन था। फराह ने कई बातें शेयर की है। उन्होंने कहा कि फ़िल्म में अमृता राव की जगह पहले आएशा टाकिया को लिया जारहा था।एक यूजर ने लिखा है कि आपने आपका असली चेहरा दिखाय है। आगे से हम ये सुनिश्चित करे कि हमसभी राष्ट्रवादी भविष्य में आपकी सभी फिल्मों का बहिष्कार करेंगे।

हालांकि इस मामले में अभी तक फराह का कोई बयान नही आया है । इस फ़िल्म ने करीब 84 करोड़ रुपए का बिजनेस किया था। इस फ़िल्म के शाहरुख खान, जायद खान, अमृता राव, सुष्मिता सेन और सुनील शेट्टी ने भूमिका निभाई थी।

Leave a Comment