सऊदी इतिहास में पहली बार महिलाओं-पुरुषों ने ताश की तरह दिखने वाला ‘बलूत’ गेम खेला, जीत पर मिलेगा 1 करोड़

हाल ही में सोशल मीडिया पर एक खबर तेज़ी से वायरल हो रही है। सऊदी अरब से एक खबर देखने को मिली है जो बेहद चौकाने वाली है । हमारे देश में इसे हर उम्र के लोग इस गेम को खेलते है, लेकिन युवाओं में इसे ज्यादा खेला जाता है। युवाओं में इस खेल का क्रेज बहुत ज्यादा है। ये एक तरह से अवैध भी है ।

कुछ लोगो का कहना है कि ये गेम फ्रांस से आया है तो वही देश में अन्य लोगो का कहना है कि ये गेम भारत से आया है। युवाओं का कहना है कि ये गेम 100 साल पहले सऊदी में आया था । अब ये अब सऊदी में बहुत तेजी से फैल गया है। बता दे कि इस खेल में 4 खिलाड़ी की जरूरत होती है। 4 खिलाड़ियो को 2 टीमो में बांटा जाता है। प्रत्येक 2 खिलाड़ी केवल 32 कार्ड का प्रयोग करता है।

कार्ड से 2 से 6 की संख्या वाले कार्ड को खेल से बाहर रखा जाता है। एक खिलाड़ी 32 कार्ड वितरित करता है और प्रत्येक खिलाड़ी को 5 कार्ड मिलते है। इनका मुख्य लक्ष्य ये होता है कि रैंकों को जितना है। जिसमे उच्च रैंकिंग कार्ड खेला जाता है।खेल तो प्रणालियां,सैन और होकॉम द्वारा खेला जाता है, पहला दूसरा से बहुत मजबूत होता है।

हम्द अल हरबी नाम के शख्स है जो 12 साल से ये गेम खेल रहे है। उन्होंने कहा है कि बलूत की लोकप्रियता का कारण प्लेइंग कार्ड की उपलब्धता है। इस गेम का नाम अंग्रेजी शब्द प्लाट से लिया गया है। जिसका अर्थ योजना और सौदा करना है।

सऊदी न्यूज़ के अनुसार बलूत गेम को जीतने वाले को 2 मिलियन सऊदी रियाल का पुरुस्कार दिया जाएगा । इस चैम्पियन में महिलाओं के अलावा छोटे बच्चे, युवक और बुजुर्गों शामिल हुए । इस प्रतियोगिता के वीडीओ सोशल मिडीया पर शेयर हुए तो देखते ही देखते वा’यरल हो गए । सऊदी की यह प्रतियोगिता बलूत हर साल होती है ।बलूत एक तरह से ताश के पत्ते का खेल है जिसको सऊदी में बलूत कहा जाता है। 

Leave a Comment