मिलिए फिरोज़ आलम से… कांस्टेबल से अफसर बनने की कहानी है मिसाल, UPSC में लहराया परचम

जिंदगी में हमेशा सीखने वाला और मेहनत करने वाला इंसान ही आगे बढ़ता है।अपने नाम और देश का नाम भी रोशन करता है। नोकरी मिलने के बाद भी दिल्ली के दो पुलिस कांस्टेबल आहे के लिए मेहनत करते रहे और परीक्षा की तैयारी में जुट गए। इनकी मेहनत का ही नतीजा है कि

इन्होंने APS और IPS बनकर ही हार मानी है। साल 2010 में विजय सिंह गुर्जर और फिरोज आलम दिल्ली पुलिस में कांस्टेबल के पद पर तैनात हुए है।अपनी मेहनत की वजह से विजय सिंह ने 2017 में 574 वी रैंक के साथ यूपीएससी परीक्षा को पास किया तो वही साल 2019 में फिरोज आलम ने भी 645 वी रैंक के साथ यूपीएससी की परीक्षा को पास किया है।

firoz alam ips

बता दे कि वर्तमान में विजय गुजरात कैडर के आईपीएस और गुजरात के भावनगर में ही एएसपी के पद पर कायर्रत भी है। अगर फिरोज की बात करे तो उनको अंडमान निकोबार दीपसमुह पुलिस सेवा कैडर मिला है।

इसी के तहत फिरोज आलम को दिल्ली में बतौर एसीपी के पद पर पोस्टिंग प्राप्त हुई है।फिरोज का जन्म यूपी के हापुड़ जिले के आजमपुर दहपा गांव में हुआ था। उनके पिता मोहम्मद शहादत का कवडी का काम करते है।

firoz alam ips

12 तक पढ़ाई उन्होंने अपने गांव के स्कूल से ही प्राप्त की है । वह 12 के बाद ही पुलिस कांस्टेबल में भर्ती हो गए थे। यह अपने गांव के दूसरे व्यक्ति है जिन्होंने यूपीएससी की परीक्षा को पास किया है।

Leave a Comment