मोहम्मद अजहरुद्दीन का यह रिकॉर्ड आज तक कोई नहीं तोड़ पाया, भारत के 15 बल्लेबाजो ने डेब्यू में …

इंग्लैड के खिलाफ लॉड्र्स में खेले गए पहले टेस्ट में जहां न्यूजीलैंड के बड़े नाम कुछ भी खास नही लगा है वही टेस्ट पर्दापण करने वाले डिवॉन कॉन्वे ने इतिहास रच दिया है। कॉन्वे ने डेब्यू टेस्ट में केवल शतक ही नही लगाया बल्कि इससे भी आगे निकलते हुए दोहरा शतक जमा दिया है।

उन्हीने 347 गेंदों का सामना करते हुए 200 रन बनाए है। वो इससे पहले भी टेस्ट में शतक लगाने वाले कीवी टीम के 12 वे दोहरा शतक लगाने वाले दूसरे कीवी भी बन गए है। अगर इसके अलावा भारतीय टीम की तरफ से शतक लगाने वाले खिलाड़ियों की अगर बात करे तो इस लिस्ट में 15 खिलाड़ियों के नाम भी शामिल है।

first test match century indian player

बता दे, भारत की तरफ सेडेब्यू करते हुए सबसे पहले शतक लाल अमरनाथ ने लगाया था। 1933 में इंग्लैंड के खिलाफ मुम्बई में उन्होंने अपना पहला टेस्ट मैच भी खेला था। जहां पर उनके बल्ले ने 118 रनों की शतकीय पारी खेली थी। लॉड्र्स में डेब्यू टेस्ट में शतक लगानेवाले एकमात्र भारतीय बाए हाथ के दिग्गज बल्लेबाज

सौरव गांगुली के उन गिने चुने खिलाड़ियों में भी शामिल है। जिन्होंने लॉड्र्स के मैदान पर टेस्ट पर्दापण करते हुए अपना सैकड़ा भी जमाया है साल 1996 में सौरव गांगुली ने इंगलेंड के विरुद्ध लॉड्र्स में अपना पहला मैच मुकाबला भी खेला था।इसी मैच में भारत की दीवार कहे जाने वाले राहुल द्रविड़ ने टेस्ट डेब्यू किया था। लेकिन वो महज से 5 शतक लगने से भी चूक गए थे।

first test match century indian player

तब उनके 95 रन बनाकर पवेलियन लौटना पड़ा था। वही बात मोहममद अज़हरुद्दीन की करें तो उन्होंने डेब्यू टेस्ट मैच में शतक लगाने के अलावा अगले 2 मैचों में भी शतक लगाया था। यानी डेब्यू मैच सहित लगातर तीन शतक लगाने वाले वे दुनिया के एकमात्र बल्लेबाज है।

Leave a Comment