134 साल के इतिहास में हॉर्वर्ड लॉ को मिला पहली बार मुस्लिम प्रिसिडेंट, जानिए

हा’वर्ड विश्विवि’द्या’लय अमे’रिका के मेसा’चुट्स शह’र के कें’ब्रिज में स्थित एक निजी यूनि’वर्सि’टी है। जो इवी लीग का सदस्य है।इसकी स्थापना 1636 में ऑप निवेशि’क मेसचु’ट्स का’नून के तहत हुई थी। शुरुआत में यह कॉले’ज द कॉले’ज ऑफ़ न्यू टा ‘उन के नाम से जाना जाता था।

हा’वर्ड ला यूनिव’र्सिटी में 134 साल बाद किसी मुस्लि’म को इसका अध्यक्ष चुना गया है।लों’स ए’जिंस में जन्मे मिस्र अमेरि’का युवक अपने 134 साल के इतिहास में हाव’र्ड ल रिव्यू का अध्यक्ष चुना गया है।छात्र हसन शहनी ने कहा है कि उन्हें उम्मीद है कि उनका चुनाव का’नूनों शि’क्षा नगरी की विवि’धता के महत्व की बड़’ती मान्यता और कानू’नी पर’मपरां के लिए इसके बड़ते सम्मान का प्र’तिनिधि’त्व भी करेगा।

बता दे की इससे पहले हा’वर्ड में काम करने वाले कानू’नी और राज’नीतिक प्रकाश’कों के बीच, पूर्व अमेरिकी राष्ट्पति बराक ओबामा थे। जिन्होंने साल 1990 में पत्रिका को पहला ब्लेक प्रे’सीडें’सी नमित किया था।

बता दे शह्ववी ने 2016 में हाव’र्ड ला से ‘स्नातक कि डिग्री भी प्राप्त की है। उसके बाद उन्होंने ओरिएंटल स्टडीज में डा’क्ट्रेट को उ’पाधि प्राप्त करने के लिए ओक्स’फॉर्ड विश्ववि’द्यालय में रो’ड्स स्कॉ’लर के रूप में भाग भी लिया है। हावर्ड दुनिया के सबसे प्रसि’द्ध शि’क्षण संस्थानों में से एक है।

harvard law school 2021

2010 में इस विश्वविद्याल’य मै 21000 छात्र दाखिला भी लेते है और इस समय इसमें करीब7000 विदेशी छात्र भी पड़ रहे है। पहले इसको जोन हाव’र्ड भी कहा जाता था। पहली बार मेसाचू’सेट्स के संविधान 1780- में हावर्ड के साथ यूनि’वर्सिटी शब्द जोड़ा गया।

Leave a Comment