हॉवर्ड यूनिवर्सिटी ने कुरान पाक को न्याय करने वाली सर्वक्षेष्ठ पुस्तक बताया,सूरह निसा की ये आयत ….

हार्डवर्ड यूनिवर्सिटी अमेरिका के बारे में कौन नही जानता है , यह दुनिया की सबसे प्रतिष्ठित यूनिवर्सिटी मानी जाती है । अमेरिका के मैसाचुएट्स शहर के केम्ब्रिज में स्थित है। इसकी स्थापना 1636 में औपनिवेशिक मैसाचुएट्स कानून के तहत हुई थी। शुरुआत के दिनों में ये न्यू कॉलेज और द कॉलेज ऑफ न्यू टाउन के नाम से जानी जाती थी।

ये यूनिवर्सिटी दुनिया के सबसे प्रतिष्ठित संस्थानों में से एक है। हार्वर्ड यूनिवर्सिटी ने अपने प्रवेश द्वार पर कुरान ए पाक की आयत सूरह निसा को लगाया है । बता दे कि सूरह अल निसा में महिलाओं के हक के बारे में बताया गया है। जो कि यूनिवर्सिटी के दरवाजे ओर लगाई गई है । एक दीवार जो कि न्या’य के खि’लाफ और सम्बन्ध में बताती है।

harvard university

सूरह अल निसा में महिलाओं के सशक्तिकरण के लिए जाना जाता है। इस्लाम ने महिलाओं के लिए पहले दिन से ही अधिकारों का समर्थन किया है। इ’स्लाम एक ऐसा मजहब है जो म’हिलाओं के हितों के बारे में बढ़ावा देता है।

लेकिन जैसे जैसे दुनिया आगे बढ़ती जा रही है वैसे वैसे ही इ’स्लामि’क का’नूनों को भुला दिया जा रहा है। ऐसा ही एक का’नून है, जिसमे मुस्लिम महिलाएं अपने पिता की कोई भी जमीन का एक तिहाई हिस्से की हकदार रहती है। लेकिन आज सिर्फ बेटे को ही अहमियत दी जाती है , बेटियों को अहमियत नही दी जाती है ।

harvard university

हार्वर्ड यूनिवर्सिटी ने इ’स्लाम की न्याय की लड़ाई को उजागर करने का फैसला किया है। इ’स्ला’म और कु’रान ए पा’क में नियमो और न्याय को बहुत ज्यादा प्राथमिकता दी जाती है। इ’स्ला’म मे अ’न्या’य के लिए कोई स्थान नही है।

Leave a Comment