जब हजरत खालिद बिन वलीद को कब्र में उतारा था तो लोगों ने देखा आपका घोड़ा……

इ’स्ला’म’ के इतिहास में सबसे चर्चित नामों में से एक नाम खालिद बिन वलीद रजि’अल्लहुअन्हा का है। इनका ल’क़ब अ’ल्लाह के।रसूल ने ‘सैफुअ’ल्ला’ह दिया। जिनके माने अ’ल्ला’ह के त’ल’वार’ के है। इनके नाम के साथ एक ऐसा कारनामा जुड़ा है जो रहती दुनिया तक याद रखा जाएगा।

उन्होंने अपनी पूरी जिंदगी में कोई भी जंग नही हारी। मु’स’ल’मानो में ग’ज’वा उ’हद में जीती हुई जं’ग जो फिसल गई। उसमे भी इन्ही का नाम आता है।आज उनके इंत’का’ल का एक वाकिया पेश करते है। जब हजरत खालिद बिन वलीद रजि’अल्लहुअन्हा के इंते’क़ाल की खबर म’दीना मुन्व’बर पहुचीं तो हर घर मे

इस बात का कोह’राम म’च गया। ह’जरत उमर रजिअ’ल्ल’हुअन्हा ने बहुत ही रन्जीदा हो गए और अहले मदीना को सोग मानने की इजा’जत दे दी। जब हजरत ख़ालिद बिन वा’जिद को ‘कब्र में उता’रा जा रहा था तो लोगो ने देखा कि आ’पका घो’ड़ा अश्कर

जिसकी पी’ठ पर बैठ’कर आपने तमाम जं’ग ल’ड़ी वो भी आं’सू ब’हा रहा था। हज’रत खा’लिद बिन वलीद ने करके में सिर्फ त’ल’वार खं’जर और नेजे छोड़े थे। इन हथि’या’र के अलावा उनका एक गुलाम था। जो हमेशा उनके साथ रहा था। अ’ल्ला’ह की यह त’ल’वार जिसकी दो उस वक्त की बड़ी

सल्तनत थी।आपने जो भी कमाया सिर्फ अ’ल्ला’ह की राह में खर्च कर दिया। अपनी पूरी जिं’दगी को मैदा’न जं’ग में गुजार दी। इन जैसे सा’हबा क’रामे कि वजह से पूरी दुनिया मे इ’स्ला’म का परचम लहराया है।

Leave a Comment