वा’यरल ख़बर : मु’स्लिम स्टूडेंट नूर अबुकर ने हि’ज़ाब पहनकर लगाई थी रेस, अमेरिकी स्कूल ने सुनाया ये अ’जीब फ़रमान

मु’स्लि’म समाज मे बु’र्का पहनने को अ”दब और तह’ज़ीब के दा’यरे में रखा जाता है। और दुनिया भर में मु’स्लि’म औरते ऐसा करती भी है लेकिन काफी लोगों को इस हि”जाब से हद्द से ज्यादा दिक्कत होती है । आम तौर पर औ”रते हिजाब पहनकर बाहर जाती है। लेकिन आज के मा’हौल में उनको हि’जाब पहनने से रो’क दिया जाता है। जो कि गलत है। हाल ही में बु’र्का पहनने की वजह से एक महिला को गोल्ड नही दिया गया था। ना जाने ऐसे ही बहुत तरह के वा’क़ये होते है।

आइये आज हम आपको बताये की किस तरह से अमेरिका राज्य ओहियो में रहने वाली एक मु’स्लिम को एक क्रॉस कं’ट्री दौ’ड़ से बा’हर कर दिया है। यह एक हाई स्कूल की छात्रा थी। 16 साल की नूर अबुकरम ने कहा कि उसकी पोशा’;क फिनिश लाइन पार करने के बाद सामान निय;मो के खि’लाफ थी। इस व’जह से उसको बाह’र कर दिया गया है। यह कहते हुए नूर को अ’प’मा’नि”त किया गया और उनके साथ ग’ल’त व्य’व’हा’र भी किया गया ।

वह सिल्वेनिया नॉर्थ स्कूल टीम के लिए हर सीजन में दौड़ती रही है। उसका हि’जाब कभी भी दौड़ में मुद्दा नही बना था। लेकिन आज वो और हि’जा’ब पूरी दुनिया मे चर्चा में है । जब अबुकरम के कोच अधिकारियों से बात कर रहे थे तो नू’र को ड”र लगने लगा था। उन्होंने सोचा कि वह वैसे ही भागती थी। लेकिन जल्द ही उसको पता चला कि उसके हि’जाब के कारण उसको टीम में नही लिया गया है।

उन्होंने लिखा है कि “मैं तुरन्त म’चल जाती हूं दौ’ड़ने के लिए , मेरा दिल डू’ब जाता है और ऐसा महसूस करती हूं कि जैसे में कं’ठ में मु’क्का मारू” । नूर अबुकरम ने कहा कि मैं अपने पिता से बात करते हुए फ़ोन पर रो’ने लगी। उन्होंने कहा कि जब मैं उस समय खुद को अ’प’मा’नित, अ’स्वी’का’र, नि’राश म’ह’सूस कर रही थी। हमारे समाज मे अ’बुकरन जैसे कई मामले मिलते है ।

इसमें से अधिकतर मामलों में मु’स्लि’म लड़’कियों को उनके फैसले को लेकर से’ल्यूट क’रना पड़ता है । लेकिन एक सवाल ये भी बनता है कि जब ऐसा बार बार होता है क्यों ऐसी चीजें बार बार हो जिससे मु’स्लि’म लड़कि’यों या औ’र’तों को अ’प’मा’नि’त मह’सूस हो । वो भी स’माज का हि’स्सा है ‘लो’गों’ को इस मा’म’ले में मज’बूती से सामने आकर हमा’री माँ ,बेटियों की हौ’सला अफजा’ई करने की जरूरत है ।

Leave a Comment