फिरोज खान, शौकत से लेकर जफर इक़बाल तक इन 16 भारतीय मुस्लिमों ने ओलंपिक में दिलाया था सम्मान, देखिए लिस्ट

हॉकी के मैदान पर ऐसे तो 11 ख़िलाडी खेलते है। जीत के बाद क्रेडिट पूरी टीम हो जाती है। फाइनल मुकाबले में जीत के बाद पूरी टीम को ही मेडल दिए जाते है। जो प्रत्येक खिलाड़ी के जिंदगी में बहुत भी अहमअनमोल तोहफा होता है।आज हम आपको कुछ ऐसे ही मुस्लिम खिलाडीयो की बात कररहे है।

जिन्होंने भारतिय हॉकी टीम में रहकरन केवल शानदारप्रदर्शम किया है बल्कि टीम को ओलंपिक में चैम्पियन बनाकर गोल्ड़ मेडलपदक भी हासिल किया है।सा ल 1928 में भारत की टीम को स्वर्ण पदक मिला था। इसकी विजेता हॉकी टीम के मुस्लिम खिलाडी भी थे। फिरोज खान , अली शौकत और सैयद यूसुफ का नाम भी शामिल है।

साल 1932 में सवर्ण पदक विजेता में सैय्यद जफर, मसूद अली खान, मोहम्मद असलम का नाम शामिल।है। साल 1936 में स्वर्ण पदक विजेता टीम में अली इक़तिदार दारा, मोहम्मद हुसैन, सैय्यद जफर, अहमद खान, मिर्जा मसूद, शब्बन शहबूद्दीन का नाम भी शामिल है।

इसके अलावा साल 1948 में स्वर्ण पदक विजेता में अख्तर हुसैन, लतीफ उर रहमान का नाम शामिल है। इनके अलावा साल 1980 में स्वर्ण पदक विजेता हॉकी टीम मेंजफर इकबाल और मोहम्मदशाहिद का नाम भी शामिल है। बता दे कि साल 2021 में चल रहे

ओलंपिक खेलों में भारतीय हॉकी टीम में 41 साल बाद ओलंपिक में ऐतिहासक जीत हासिल करते हुए ब्रॉन्ज मेडल पर कब्जा किया है। साल 1980 के बाद भारतीय टीम ने इस पदक पर कब्ज किया है।

Leave a Comment