पापा ने बेटे की पढाई के लिए बेंच दी जमीन, बेटे नुरुल हसन ने IPS बन ऊँचा कर दिया सिर

“अगर होसला बुलन्द हो ओर नेक इरादे हो तो इन्सान किसी भी मन्जिल तक पहुंच सकता है “, इस कहावत को सच करके दिखाया है । उतर प्रदेश के एक छोटे से गांव से ताल्लुक रखने वाले नुरूल हसन की ।गरीब परिवार से ताल्लुक रखने वाले नुरूल हसन ने बिना कोचिंग के UPSC सिविल परीक्षा पास कर यह साबित कर दिया की । अगर इन्सान मन से जिन ले तो कितनी भी मुश्किल हो वह सफलता पा लेता है नुरूल हसन का मानना है ।

कि इन्सान की आर्थिक स्थिति ओर मजहब उसके मेहनत ओर लगन से बडे नही होते ।नुरूल हसन उत्तर प्रदेश के पीलीभीत जिले के हरिरायपुर के रहने वाले है ओर वही से उन्होने अपनी स्कूली पढ़ाई पुरी की। उन्होने A,B,C,D.. 6 क्लास मे सिखे थे जिस वजह से उनकी अंग्रेजी 12 तक काफी कमजोर रही । उनके पिता चतुर्थ श्रेणी के कर्मचारी थे इस वजह से उनकी बचपन काफी गरीबी मे बिता ।

नुरूल हसन बताते है कि 12 वी करने के बाद उन्होंने बी.टैक करने का फैसला लिया, IIT की कोचिंग के लिए उन्हे 35 हजार रूपयो की जरूरत थी जिसके लिए उनके पिता को 1 एकड़ जमीन बेचनी पडी । इन पैसो से नुरूल ने कोचिंग की फीस भरी ओर खुब मेहनत से पढाई शुरू की । इसकी आलोचना उनके परिवारवालों ने खुब की लेकिन नुरूल हसन सिर्फ एकाग्र होकर पढाई करते रहे ।

नुरूल हसन IIT मै चयनित नहो हो पाते पर ख्याति प्राप्त अलीगढ मुस्लिम युनिवर्सिटी से उन्होने बी.टैक परीक्षा पास की ओर फिर दाखिले लेकर मेहनत शुरू की। फीस की प्रोब्लम के चलते उन्हों ने बच्चो को फिजिक्स ओर केमिस्ट्री की क्लास देने लगे , ओर इन पैसो से कोलेज की फीस भरते थे ।

पढाई पूरी होने के बाद नुरूल हसन का टाटा कन्सन्टेन्सी ओर सीमेन्स लिमिटेड मे चयन हुआ इसमे से उन्होने टाटा कन्सन्टेन्सी जोईन करने का फैसला लिया ताकी अपने परिवार के रोजी-रोटी का इंतजाम हो जाए । लेकिन एक साल मे ही उन्हे यह आभास हो गया कि वह प्राइवेट नौकरी के लिए नही बने है । इसके बाद उन्होने भाभा एटोमिक रिसर्च सेन्टर मे एग्जाम दिया ओर पास होकर साइटिस्ट के पद पर आसीन हुए ।

वैज्ञानिक के पद पर काम करने के बाद भी नुरूल हसन को संतुष्टि ना हुई इसके बाद उन्होने IAS की तैयारी की ओर 190 नम्बर से परीक्षा पास की ओर IPS बने । नुरूल हसन का मानना है कि व्यक्ति सिर्फ शिक्षा के द्वारा ही खुद के हालात बदल सकता है । अगर उनके पिता ने जमीन ना बेची होती तो आज वो IPS ना होते ।

Leave a Comment