भारत में त’ल’वार के दम पर नहीं फैला इ’स्ला’म ध’र्म, इसी बीच मिल गया बड़ा सु’बूत, जानिए

हमारे भारत देश में हि’न्दू मु’स्लि’म सि’ख ई’साई ध’र्म से ताल्लुक रखने वाले लोग रहते है । आज़ादी के बाद और पहले से देश मे हर ध’र्म को मानने वाले सभी ध’र्मों के लोग अपने म’ज़’ह’ब के हिसाब से पू’जा करते है, न’माज़ पढ़ते है, च’र्च जाते है या फिर गु’रु’द्वारा में प्राथ’ना करते है । यानी कि हर म’ज़’ह’ब को मानने वाले लोग अपने ध’र्म के अनुसार चलते है । कोई से भी ध’र्म हो वो हमें शा’न्ति और एक’ता का संदेश देता है। हमे हमारे देश और समाज मे ए’कता को बनाए रखना चाहिए।

आज के दौर में ध’र्म के नाम पर लोगो को लू’टा जाता है और आपस मे ल’ड़ाई करा दी जाती है। आज के दौर में एक वर्ग के ख़ि’ला’फ़ ग’ल’त प्रो’पे’गें’डा चलाकर बहुत ही ज्यादा भे’द’भा’व किया जाता है। हम में से बहुत से ऐसे भी लोग है जो मन मे ध’र्म के नाम पर और कई सवालो को पै’दा करते है। म’ज’हब के नाम पर करते है कि ध’र्म से हमे फायदा पहुचता है या फिर नु’क’सान।

आपको बताते है कि कोई से भी ध’र्म आपको जबरदस्ती धर्म नही थोपता है। मु’स्लि’म बा’द’शा’हों ने बहुत समय पहले हु’कूमत की थी। भारत मे आज भी मु’स्लि’म अ’ल्प’संख्य’क निवास करते हैं। सभी ध’र्मों के लोग खुशी खुशी रहते है। सभी को एक समान माना जाता है। सभी ध’र्म के मानने वाले अपने देश, राज्य और जिलों को अमन और शांति से रहे। मु’स्लि’मो में सबसे अहम और प’वित्र कि’ताब कु’रान शरीफ को माना जाता है ।

जिससे पता चलता है कि हमे “इ’स्ला’म क्या सिखाता है, इस किताब के मा”ध्यम से इ’स्ला’म धर्म से जुड़ी कई चीज़ो के बारे विस्तार से बताया गया । इस प’वित्र किताब में सबक लेने वाले लोगों के लिए सबक भी मौजूद है । खु’दा के किसी भी न’बी ने किसी भी इंसान को त’ल’वार की जोर पर इ’स्ला’म को बु’लंद नही किया है। ना ही सिखाया है। बल्कि सद्भाव और प्यार से एक किया है।

हमारे प्या’रे न’बी स’ल्लाहु अले”ही वस्स’लाम दुनि’या भर के लोगों के लिए एक ऐसी मिसाल है जो ता क’या’म’त तक रहेगा । प्यारे न”बी ने दु”निया के सभी लोगों को ऐसे ऐसे पै”गाम दिए कि आज वै’ज्ञा’नि’क भी हैरान है । आज प्यारे नबी की कही बाते सच साबित हो रही है । प्यारे नबी ने जिन सुन्नतों पर इस्लाम धर्म को मानने वाले लोगों को चलना बताया उंसके क्या क्या फायदे है आज वै”ज्ञा”निक रिसर्च से साबित हो चुका है ।

अगर कोई भी ध”र्म को मनाने वाला जबर”दस्ती नही करता है। सबसे पहले तो उसको यह मालूम होना चाहिए कि इ’स्ला’म मे मूल नियमो के बारे में पता हो। उसका पालन करता हो। म”लेशिया और इंडो”नेशि”या में मुस्लिम सरकारें है, आज भी 60 से अधिक मुस्लिम देश दुनिया भर में जो अब भी अमन एकता की मिसाल कायम करते है ।इन देशों में अधिकतर मुस्लिम निवास करते है। आज तक उनलोगों ने “यु’द्ध’ का सा’मना नही किया है। ध#र्म के नाम पर अगर किसी ने बा#रीकी से सोचे तो यह पूरा मा”मला ही ख”त्म हो जाए।

Leave a Comment