जामिया मिलिया के इन छात्रों लहराया कामयाबी का ऐसा परचम जिसकी गूंज अमेरिका तक सुनाई दे रही

जा’मि’या मि’लिया इ’स्ला’मिया हर रोज कीर्तिमान को स्था’पित करता हुआ जा रहा है। साल 2019 में स्थापित गुरु’कुल एक शेक्षि’ण नेटव’र्किंग प्लेटफार्म है।जो शि’क्षि’र्थी और शि’क्षकों को जोड़ने के लिए फिजिकल टूल है। यह एक साइत प्रदन करता है।

25 से अधिक तूल और एक विशाल कंटेंट पूल के साथ, गुरुकुल स्कूलों और कॉलेजों के शिक्षकों को ऑनलाइन जाने और अपने डिजिटल इंफ्रास्ट्रक्चर का निर्माण करने के लिए सशक्त बना रहा है। जो शि’क्षार्थियों को उन्हें जोड़ के और सीखने में उन्हें सक्षम बनाता है।

फंडिंग राउंड पर बोलते हुए उन्होंने कहा है कि गुरुकुल ये संस्थाक और सीईओ आ’दिल मेरा’ज जो कि वर्तमान में जमिया में मनो’विज्ञा”न के छात्र है उन्होंने कहा कि हम अपने रण’नी’तिक नि’वेशकों के साथ अपनी यात्रा को शुरू करने के लिए उत्साहित है। जो हमारी दृष्टि में विश्वास रखते है।

हमारी परि’स्थि’तियों तंत्र की गहरी समझ को रखते है। इसमें डिजिटल रूप से सीखना और सामाजिक करण अलग अलग धाराओं के रूप में उभर है। जिसमे परिणा’मस्वरूप शै’क्षिण उपक’रण, सामग्री, शिक्षार्थी और शिक्षण विशिस्ट डोमेन में बिखरे हुए है।

शिक्षा को मुफ्त और हाइपर लोकल बनाने के लिए कुछ रजय सरकारों के सहयोग से गुरुकुल ने पढाई इंडिया तूल लॉन्च करने की योजना बनाई है। हाल ही में इसे पायलेटिंग के लिए

उच्च शिक्षा बिहार सरकार के द्वारा अनुमोदित किया गया है। इसमी K-12 प्रतियोगी परीक्षा और स्किल इंडिया के लि लाइव क्लासेस,अध्ययन सामग्री और टेस्ट सीरीज और ज्याद प्रभावशाली है।

बता दे कि सह संस्थापक सीइओ खनसा फ़हद जो वतर्मान में जमिया में बी टेक की अंतिम वर्ष की छात्रा है। उन्होंने कहा है कि यह कहानी हमारे सँघर्ष की कहानी है।

Leave a Comment