सब्जी का ठेला लगातीं हैं कौसर जहां, बेटी मुमताज़ ने दिलाई भारत को जीत, रचा इतिहास

हमारे आसपस ऐसी कई कहानियां होती है जो हमें प्रेरणा देती है। बल्कि बुरी प’रिस्थि’तियों में हा’लात से लड़’के अपने सपनो को हकीकत में कैसे तब्दील करते है इस बात को भी सिखाती है। ऐसी ही एक कहानी लखनऊ की रहमय वाली मुमताज खान की है।

मुमताज लखनऊ के एक सब्जी विक्रेता की बेटी है जो दक्षिम अफ्रीका में चल रहे जूनियर वूमेन हॉकी कप टीम में भारत की और से खेल रही है। मुमताज की इस कामयाबी न सिर्फ उनका परिवार बल्कि हर कोई तारीफ और गर्व महसूस कर रहा है।

इसी तरह से मुमताज की माँ कैसर सब्जी बेचने का काम करती है। वह शुक्रवार को नमाज से पहले सब्जी बेच रही थी उनकी ठेले पर बहुत सारे ग्राहकों की भीड़ लगी हुई थी। मुमताज की बहन घर और मोबाइल में अपने बहन को देश के लिए खेलते हुए देखा रही है।

मुमताज ने भारत देश के लिए गोलकीपर किया। वह मुमताज को प्लेयर ऑफ द मैच पुरुस्कार से नवाज गया है।इसी तरह मुमताज भारत देश के विजयी अभियान में हर मैच में चार मैचों में जीत को दर्ज करते हुए एक बड़ा योगदान दिया है। वह अब तक छह गोल के साथ मुमताज टूर्नामत की तीसरी सबसे ज्यादा गोल करने वाली खिलाडी है।

मुमताज की बड़ी बहन फराह बताती है कि हमे बहुत खुशी हो रही है। एक वक्त था जब हमारे पास कुछ भी नही था जब कुछ लोगो ने मेरे माता और पिता को इस बात का ताना दिया था कि एक लड़की को खेल खेलने की इजाजत दे दी है। मुमताज की माँ ने कहा है कि आज मुमताज ने उन लोगो को करारा जवाब दे दिया है।

Leave a Comment