हजरे असवद के बाद सऊदी अरब ने जारी की मकामे इब्राहीमी की दुर्लभ तस्वीर, देखिये

स’ऊदी अ’रब में स्थित हर जगह ही पा’क है। वहा पर रखी हुई है एक ची’जे बनाई गई म’स्जि’दें हमारे न’बि’यो ने बना’ई है। उस जगह का जैसा कोई पा’क स्थान दु’निया में भी नहीं है।जहां पर जाने के लिए हर मु’स्लि’म अपनी ख्वा’इश भी रखता है।

सउ’दी अर’ब के दो’नों म’स्जि’दों के प्रेसी’डेंसी ने बीते दिन भी ह’जरे अस’वद कि त’स्वीर को शे’यर किया था जो आज से पह’ले कभी भी नहीं दे’खी गई हैइसके अलाव उन्होंने हाल ही में म’का’मे इब्रा’हि’म कि तस्वीर को भी शे’यर किया है। जिसमे स्टे’कड़ पै’नोर’मिक फोक’स का उप’योग किया गया है।

kaabas news

बुखा’री शरी’फ मे आता है कि इ’स्मा’ईल अ’लैहि स’लाम प’त्थर लेकर देते थे और इब्राहिम अलैहि सलाम म’स्जि’द का नि’र्मा’ण कर रहे थे। इब्राहिम अलैहि ‘सला’म दी’वार भी उठा’ते जा’ते थे और थो’ड़ा पी’छा हट’कर एक प’त्थर पर खड़े होकर यह देख’ते थे कि दी’वार ठी’क से ब’नी है या नहीं।

इब्रा’हिम अलै’हि स’लाम जिस पत्थर पर खड़े हुए थे उस पत्थर पर उनके कद’मों के निशान बन गए थे । यह पत्थ’र आज भी का’बा शरी’फ के अंदर र’खा हुए है।इस ही मकमे इब्रा’हिम के नाम से जाना जाता है।इसके अलावा भी makame इ’ब्राहिम के लिए कुर’आन मजी’द मे इसका जि’क्र बड़े ही एहत’राम से किया गया है।

सुर’ह ब’करा कि आयत नंबर 124 में कहा गया है कि वत खजू मिम मुका’मे इब्रा’हिम मु’सल्ला, यानी कि म’कमें इब्र’हिम को न’माज कि जगह बनाओ। सउ’दी अरब में हजा’रों लोग ह’ज करने के लिए हर साल जाते है और को’रोना’वाय’रस कि वजह से रोक लगी हुई है।

Leave a Comment