कश्मीर की इस महिलाा ने जीता अन्तराष्ट्रीय फोटोजर्नलिज्म अवार्ड, जानिए

मसरत जहरा कश्मीर में फोटो जनर्लिस्ट है। मसरत जहरा उस वक़्त सुर्ख़ियो में आई जब उन पर मु’क’द’मा दर्ज किया गया था । उन पर रा’ष्ट्र वि’रो’धी पो’स्ट अप’लोड करने पर गैर’का’नू’नी ग’ति’वि’धि रोक’था’म अ’धि’नि’य’म के तहत भी जम्मू ओर कश्मीर पु’लि’स ने पहले भी मा’म’ला दर्ज किया हुआ है।मु’स्लिम परिवार में जन्मी और पली बढ़ी मसरत मुस्लि’म स’मुदाय के लिए पिछले चार सालों से काम कर रही है।

जिंसमे उनका सबसे ज्यादक फोक’स ही लोकल क’म्युनि’टी और महिलाओं के ऊपर होता है। उनकी तस्वीरों को देखने से पता चलता है कि वो काफी गहराई से अपने काम को करती है।भारत में स्थित कश्मी’र फ्रीलां’फ फोटो जर्नलि’स्ट मसरत जहरा को 2020 के पीटर मेकलर अवार्ड फ़ॉर करेलि’ज्म एंड ए’थिकल जर्न’लिज्म से सम्मानित किया गया हैं।

journalist masrat zahra

बता दे कि उन्होंने इस क्षेत्र में महि’लाओं पर विशेष ध्यान देने के साथ कश्मीर की घटनाओं को कवर करने के लिए पुरुस्कार में नामिय किया गया था।पीटर मैकलर अवार्ड टीम के साथ एक जूम इंटरव्यू में श्रीनगर में अपने घर से मसरत जहरा ने कहा है कि यह हमारा काम है कि हम काम करे और सच्चाईदिखाए। हमे इस करने के लिए जोखि’म उठाना होगा ।

उन्होंने कहा है कि वह उन बीती कहानियों को बताने के लिए विशेषधि’का’र प्राप्त है। बता दे कि जहरा को अंत’रराष्ट्रीय महिला मीडिया फाउंडेशन द्वारा फोटोजर्नलिस्ट अवार्ड में 2020 अंजा शौर्य पुरस्कर से सममानित किया गया है। जहरा को 24 सितंबर को न्यूयार्क शहर में एक आभारी समारोह में पुरुस्कार से सम्मानित किया जाएगा।

journalist masrat zahra

मसरत 26 साल की फोटी जनर्लिसट है। वो कई न्यूज़ ऑर्गेनाइजेशन के साथ काम भी कर चुकी ह। मसरत की फोटो वंशीनगटन पोस्ट, अल जजीरा, कारवाँ, दी सन, टी आर टी आदि में छपती है। भारत सरकार ने कश्मी’र से 370 अ’नुच्छे’द ‘को ह’टा’ने के बाद सकारात्मक असर देखने को नही मिला है।

और आज भी इस मुद्दे को लेकर कई देशों में वि;वा’द बना हुआ है। हाल की पाकिस्तान के विदेश मंत्री कुरेशी कश्मीर मुद्दे को लेकर कोरो’ना काल मे चीन से मिले थे । चीन ने कुरेशी से मिलने के बाद कहा था कि भारत पाक आपस मे ये मुद्दा सँयुक्त राष्ट्र संघ के नियमों के तहत सुलझाए ।

Leave a Comment