तुर्की,कुवैत के बाद कतर ने दिया UAE को बड़ा झटका, कहा-“फिलिस्तीन के साथ रहेगेें हमेशा”

यूए’ई और इ’जरा’इल के अपने आपसी स’म्ब’न्धो को पट’री पर लाने के लिए किया गया एक अहम स’मझौता उसे भारी पड़’ता है दिख रहा है । यूए’ई और इ’स्रा’ईल की मित्रता डी’ल के बाद से पूरी दुनिया के मु’स्लि’मो में ना’रा’ज’गी और गु’स्सा साफ देखा जा सकता है। इस कदम से यू’एई की मुश्कि’लें’ बढ़ती हुई दिख रही है। एक तरफ जहां बह’रीन और ओमा’न जैसे अरब देशों ने यूएई और इ’स्राईल की शांति डील का स्वागत किया है तो वही कुवैत, तुर्की और पाक ने इसका पुर’जोर’ विरो’ध किया है।

इस बीच कतर ने भी फि’लिस्ति’नी के स’मर्थ’न में अपनी आवाज बुलंद की है और गा’जा की सहायता करते रहने का आ’हान किया है। स’ऊदी अरब ने इस मु’द्दे पर भी अभी तक भी चुप्पी सा’धी हुई है। इस मुद्दे पर तुर्की पा’क ने एक होकर बड़ा कद’म उठाने की घोषणा की है। तुर्की के र’क्षा मंत्री हुल’सी अ’कार और उनके कतरी नेता खा’लिद बिन मोहम्मद अल अत्तीयह ली’बिया की राजधानी त्रिपो’ली पहुचे है।

kuwat qatar turkey

इस दौरान उन्होंने राष्ट्रीय समझौते केअधिकारियों के साथ मुलाकात की है। एजें’सी ने कहा है कि इस यात्रा के दौरन तुर्की को तुर्की के कॉलेजो में जीएन ए बलों के तत्वों के पुन’र्वास और प्र’शि’क्षण का’र्यो की शुरुआत को घोषणा करने की उम्मीद है। हुलसी अकार ने कहा है कि हमे वि’श्वा’स है कि हम अपने लीबिया भाइयों को उनकेउचित का’र’णों का समर्थन करके वंशी त परि’णाम प्राप्त करेंगे।

अकर ने आगे कहा है कि क़तर लीबिया की एकता और शांति सुनिश्चित करने के प्रयासों का समर्थन करता है। यूएई अब मिस्र और जॉर्डन के बाद तीसरा अरब राज्य बन गया है । फि’लि’स्ति’नी समेत कई देशों ने इस पर कड़ी आ’प’त्ति जता’ई है। इस समझौते के बारे में संयुक्त बयान में अमे’रिकी राष्ट्रपति डो’ना’ल्ड ट्र’म्प, इ;जरा’इल के प्रधानमंत्री बें’जामि’न नेत’न्याहू ने कहा है कि इस ऐतिहासिक सफलता से पश्चिम एशिया में शां’ति बढ़ने की उम्मीद है।

kuwat qatar turkey

1948 में इ’जरा’इल के आ’जद होने के बाद यह तीसरा इज’रा’इल अर’ब स’मझौ’ता है । संयुक्त बयान में कहा गया है कि दोनों देशोंसे जल्द ही राजदूतों, दूता’वासों’ के आदा’न प्र’दान की उम्मीद की जा रही है। फि’लि’स्ति’नी स’रकार ने अपने यूए’ई में रह रहे रा’ज’दूत को भी वा’पस बुला लिया है और ईरा’न के रेवोल्यूश’नरी गार्ड्स ने भी इस समझौते को श’र्मना’क बताया है।

Leave a Comment