अपनी ही जमीन से निकली मिट्टी से बनाया ताजमहल, लगाए 800 पेड़-पौधे, न AC, न बिजली बिल और न कूलर

तमि’लनाडु के पो’लल्लाची के रहने वाले रामच’न्द्र सुब्र’मण्यम एक इको फ्रेंडली में रहना बहुत ज्यादा पसंद करते है और इसी में रहने के लिए उन्होंने कई कोशिश भी की है। इसके अलावा उनके घर मे बिज’ली और पानी का बिल एकदम जीरो आता है। आइये जानते है इनके घर के बारे में।

रामचंद्र ने द बेटर इंडिया से बात करते हुए बताया है कि मुझे हमशा से ही हरियाली से लगाव रहा है प्रकृति के करीब की जिंदगी को पसंद भी करते है। इंजीनियरिंग की पढ़ाई करने के बाद मेने ऑस्ट्रेलिया और अमेरिका में काम किया। 8 साल विदेश में काम करने के बाद अब वो भारत लौट आए है।

lifestyle

रामचन्द्र ने आगे बताया है कि उन्होंने अपने घर की निकली हुई मिट्टी से बने सीएसईबी ब्लॉक्स का इस्तेमाल भी किया है। उन्होंने सबसे पहले मिट्टी की जांच के लिए नमूने को लैब में भेजा।परीक्षण के बाद उनको इस बात का पता चला कि वह इस मिट्टी में 9 फीसदी सीमेंट मिलाकर, इसे ब्लॉक्स बनाने के लिए

इस्तेमाल कर सकते है। घर बनाने के लिए उन्होंने लगभग 23 हजार ब्लॉक्स मंगवाए। उन्होंने घर के अंदर प्लास्टर भी नह करवाया।उसके अलावा उन्हीने घर मे रिसाइकल्ड मटेरियल का भी इस्तेमाल करवाया ह। जैसे घर के बाथरूम में उन्हीने कोई भी टाइल नही लगवाई है।

lifestyle

उन्होंने पत्थरो से बचे छोटे छोटे टुकड़ों से बहुत डिजाईनिंग करवाई है। घर के फर्श के लिएउन्होने हेडमड टाइल का इस्तेमाल किया है। घर के चारो तरफ उन्होंने ठेर सारे पौधे भी लगवाए है। इसलिए बाहर भी ठंडाई बनी रहे। 1700 वर्ग फिट में घर है जिसमे 800 से ज्यादा पेड़ पौधे है।

Leave a Comment