मलेशिया के पीएम मोहम्मद ने भेजा राजा को इस्तीफ़ा, क’श्मीर और CAA पर …

मलेशिया को एक न्य प्रधानमंत्री जल्द ही मिल सकता है। महातिर ने मलेशिया के प्रधानमंत्री के रूप में अपना त्याग’पत्र राजा को भेज दिया है। बता दे, मलेशिया के पीएम महातिर मोहम्मद को सबसे बुजुर्ग दुनिया का पीएम माना जाता है । अरब न्यूज़ में छपी खबर के मुताबिक बताया गया है कि इससे पहले दुनिया के सबसे बुजुर्ग प्रधानमंत्री और मलेशियाई नेता महातिर मोहम्मद ने बोल दिया है कि वो जल्द ही अपनी कुर्सी छोड़ देंगे। इससे पहले उन्होंने कुर्सी छोड़ने के लिए पिछले साल आफ मन कर दिया था ।

उन्होंने ये बात भी कही है कि वो जल्द ही गठबंधन में अपने करीबी अनवर इब्राहिम को ये कुर्सी सोंप देंगे। हालांकि, इस बात का उन्होंने खुलासा नही किया है। महातिर साल 2018 में दूसरी बार मलेशिया के पीएम बने थे। फाइनेंशियल टाइम्स पर बात करते वक्त 2019 में महातिर ने कहा था कि अभी कुर्सी छोड़ने का कोई प्लान नही है । देश के हालात को देखते हुए वो सही व्यक्ति है।

अब 2020 में उन्होंने स्पष्ट करदिया की वो जल्द ही कुर्सी छोड़ने वाले है। मलेशिया के लोग सबसे ज्यादा खुश होंगे क्योंकि वो महातिर की सरकार से खासा नाराज है। एक तरफ उन्होंने अपने भड़काऊ बयानों से भारत और अमेरिका जैसे देशों केसाथ अपने रिश्ते खराब किए है। इन देशो के व्यापार में बड़ा नुकसान पहुँचा है। बता दे, मलेशिया पाम आयल का दुनिया मे उतपादन करने वाला दूसरा सबसे बड़ा देश है ।

मलेशिया के पीएम लगातार कश्मी’र मुद्दे पर पाक का साथ देते रहे है । इसके अलावा मलेशिया के पीएम मोहमम्द ने नाग’रिकता संशोध’न कानून पर भी प्रति’क्रिया दी थी । उन्होंने कहा था कि भारतीय सरकार , भारत के मुस्लिमों के साथ सही नही कररही है, उन्होंने नाग’रिकता कानू’न पर भारत को नसी’हत दी थी और इस का’नून को वापस लेने की बात भी कही थी ।

mahatir

मोहमम्द के इस बयान के बाद भारत ने कड़ी प्रति’क्रिया भी दि थी । भारत ने कहा था कि मलेशिया को भारत के आन्तरिक मा’मलों में हस्त’क्षेप नही करना चाहिए । इसके बाद मले’शिया से भारत मे आने वाला पाम तेल पर रो’क ल’गाने की खब’रों ने भी जो’र पक’ड़ा था ।

बता दे, बीबीसी हिंदी ने भी साफ किया था अगर म’लेशिया स भारत पाम तेल नही लेता है तो दोनों देशों को नुकसान होगा । क्योंकि पाम तेल का उपयोग बड़ी तादाद में होता है ,जिसकी भरपाई करना किसी और तेल के बस की नही है । बता दे, पाम तेल का उपयो खाने पीने, टूथपेस्ट, बिजली, खाने पीने की चीज़ो, चॉकलेट, बिस्किट से लेकर हर जरूरत में होता है ।

बीबीसी ने एक रिपोर्ट में कहा था कि यदि पाम तेल मलेशिया के अलावा किसी दूसरे देश से लेते है तो इसका नुकसान हो सकता है । बता दे, मलेशिया कम कीमत पर पाम तेल देता है , यहां पर सबसे ज्यादा पाम तेल निकलता भी जो दुनिया में सबसे अधिक है, यानी इंडोनेशिया के बाद बाद सबसे ज्यादा ।

Leave a Comment