मिसाल : 20 साल से मस्जिद की देखभाल कर रहा ये हिन्दू शख्स, बोले- अब मस्जिद में नमाज तब होती है जब …

देश मे आए दिन स’म्प्र’दा’यि’क’ता की मिसाल देखने को मिल रही है। मु’जफ्फ’रन’गर नगर में एक हि’न्दू शख्स पिछके 20 सालों से एक म’स्जि’द की देखभाल भी कर रहे है। इस गांव में कोई भी मु”स्लिम परिवार नही रहता है लेकिन किसी को भी इस म’स्जि’द से कोई परे’श’नी नही है।

बता दे कि इस गांव का नन्हेड़ा है। यह गांव जिला मुख्यालय से 20 किलोमीटर दूर 3 हजार की आ’बादी वाला गांव है। यह गांव अभी सौ’हार्द की मि’साल भी बना हुआ है। यहां पहले हि’न्दू ओर मु’स्लिम दो’नों ध’र्म के लोग रहते थे लेकिन 35 साल पहले पहले ही मु’स्लि’म परि’वारों के जाने बाद यहां पर हि’न्दू भी स्थित है।

meerut city mosque

उसके बाद से ही गां’व के निवा’सी राम’बीर कश्यप ने ही म’स्जि’द की देखभाल का जि’म्मा अपने कं’धों पर उ’ठालिया है। वो रोज इस म’स्जि’द का झाड़ू पोछा करते है। रम’जा’न के महीन में ही इस म’स्जिद की रंगा’ई ओर पु’ताई भी करते है। म’ज’दूरी करने वाले अपने परि’वार का पा’लन पो’षण

कर पे’ट भरने वाले रामबी’र का कहना है कि यह म’स्जिद 135साल पुरानी है। जिस को रथेड़ी गांव में रहने वाले मु’स्लि’म समु’दा’य ने बनाई थी। रामबीर का कहना है कि क’भी क’भार कोई राह’गीर आता है यो वी इस म’स्जि’द मे ‘न’मा’ज प’ड़ जाता है।

meerut city mosque

वह आगे बताते है कि वह डेरा प्रमुख राम रहीम के भी अनुया’यी है। शहर काजी तनवीर आलम का कहना है कि ध’र्म स्थ’ल सभी का होता है। यह बहुत ही ज्यादा अच्छी बात है कि कोई हि’न्दू श’ख्स एक म’स्जिद के देखभाल कर रहै है।

Leave a Comment