रेल इंजन के 57 डिग्री में रोजा नहीं छोड़ते मोईनुद्दीन ड्राइवर, सिंग्नल और क्रॉसिंग पर पढ़ते है नमाज, जानें

रमजान के मुकद्दस पाक महीना चलरहा है इस पाक महीने में सभी मुसल’मान रोज़ारखते है,नमाज ,तराबीह पढ़ते है।इसके अलावा ऐसे कई नेक काम भी करते है जिससे सवाब भी मिलता है। इस महीने में कुरान शरीफ को नाजिल किया गया था।इस महीनेमें कसरत से कुरान शरीफ की तिलावत की जाती है।

आज हम आपको एक ऐसे शख्स के बारे मेबताने वाले है जो इतनी ज्यादा ताप’मान की ग’र्मी होने के बावजूद भी रो’जा नही छोड़ते है और अपनी ड्यूटी को भी अंजाम दे रहे है। इनका नाम मोहम्मफ मोइनुद्दी। है। यह इंडियन रेलवे में लोकोपायलट है। मतलब यह ट्रेन को चलाते है। ट्रेन के इंजन के पास ही रहते है।

moeenuddin loco poilet

मिडियासे बात करते हुए मोइनुद्दीन ने बताया है कि वो करीब 15 सालों से ट्रेन के इंजन की पास नॉकरी करते है। यहां का तापमान 57 डिग्री के करीब होता है।उन्होनेआगे बताया है कि वो 15 सालों से रोजे रख रहे है।

उन्होंने आगे बताया है कि गर्मी बहुत ज्यादा होती है लेकिन अ’ल्लाह के फज’लो करम से RAmzan के रोजे भी रखता हूं। उन्होंने बताया है कि यह बहुत कठिन होता है लेकिन यह हमारे ऊपर फ’र्ज रो’जे है।इनको रखना लाज’मी है। रमजान के रोजे पूरे 1 महीने के होते है।इसके बाद ईद मनाई जाती है।

moeenuddin loco poilet

रोजे को सुबह शहरी करके की जाती है और शाम को इ’फ्तार किया जाता है। इस महीने में काफी ज्यादा रौनक भी होती है। हर शहर में ईद के त्यौहारी की जाती है।यह मुस्लिम समाज कासबसे बड़ा त्यौहार होता है।

Leave a Comment