जानिए मुसलमानों की खुद्दारी की कहानी हिन्दू भाई की जुबानी, कोरोना संकट में दिल जीत लेगी ये कहानी

क्रो’ना वाय’रस के कारण अचा’नक हुए देश मे लॉक डाउन के बाद तरह तरह की खबर सामने आई थी ।कोरो’ना ‘वा’यरस” के चलते हुए देश मे रहने वाले लोग अलग अलग जगह पर फस गए है । इन पलायन करने वालो में से कोई पिता है तो कोई मा है तो कोई मासूम है तो कोई अपना सा’मान कंधों पर उठाकर अपने गांव चल पड़ा है । देश मे ऐसे भा’वुक करने वाली बहुत कहानी है जो अपने आप मे बोलती हुई दिखाई देती है ।

इन संकट में समय सभी अपने घर के आंगन का दीदार करने के लिए हजारो किलोमीटर की दूरी तय कर रहे है। आज हम आपको एक ऐसी ही कहानी के बारे में बताने जा ररहे है । ये मु’स्लि’म मजदू’रों की कहानी है। आज भी देश के अंदर नफरत नही बल्कि भाई’चारा कायम है। जिसका बयान एक हि’न्दू धर्म’वीर यादव कर रहे है ।ये प्रवा’सी मजदूर है, सब ही लोग मु’सलमा’न है । बिहार के कटि’हार जिले से आते है ।

आज’मगढ़ से म’जदूरी करने आए थे। लोक’ डाउन की वजह से यही पर फस गए है। अब इन’के पास कोई काम नही है, पैसे थे धीरे धीरे करके सब खत्म’ भी हो गए है। एक पोस्ट में मदद करने वाले लिखते है ।कल उन में से एक नए मुझे हालातो के बारे में बताया तो मैने उन’को राशन दे दिया। आज जब मैने उन’को बुला’कर राशन ओर पैसे देना चाहे तो उन्होंने मैने सामने पड़ी जमीन को खोदना शुरू कर दिया। कहने लगे भैया जी सब्जी लगा लीजिएगा।

इतनी मुश्कि’ल वक्त में भी उनकी खुद्दारी देखकर बहुत ही अच्छा मह’सूस हुआ। इसके बाद उन्हीने आधे घण्टे में जमीन के टुकड़ों को बोने लाय’क बना दिया। उन्होंने कहा कि मेरे लिए ये मुस’ल’मान नही बल्कि एक इंसान है। आज भी हमारे देश मे भाई’चारा कायम है। सबसे पहले हमारा ध’र्म नही है बल्कि हम सब इं’सान है। इस फे’स’बुक पोस्ट को अब तक 7000 लोगो ने लाइक किया है। 4500 से अधिक बार इसको शेयर भी किया जा चुका है।

इसके अलावा ट्विटर पर इस्रा’इल म’लिक नाम के यूजर ने शेयर करते हुए लिखा है कि मु’स्लि’मो की कहानी, हि’न्दू भाई की जुबानी। ट्विटर पर इस मैसेज को न्यूज़24 की पत्रकार साक्षी जोशी ने भी रीट्वीट किया है । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना संकट को देखते हुए 24 मार्च को 21 दिन का लोक डाउन का ऐलान किया था। जिसकी वजह से आवाग’मन के साधन सब कुछ बन्द है। इसलिए मजदूर भी साध’न न मिलने की वजह से फस गए है और कोई तो पैदल ही अपने गांव की ओर चल पड़े है।

Leave a Comment