मुस्लिम शख्स ने कायम की भाईचारे की मिसाल, हिन्दू दोस्त को किडनी देकर बचाई जान

पश्चि’म बंगा’ल के उत्तरी डिजानपुर जिले में भाईचारे की मि’साल कायम करते हुए एक मुस्लिम शक्स ने अपने एक पूर्व सहयोगी की जान बचाने के लिए अपनी एक कि’डनी दा’न करने का फैसला किया है। हाल ही कब हसलू मोहम्मद नाम के

शख्स ने राज्य के स्वा’स्थ्य विभाग में आवेदन देकर अंगदान की मं’जूरी मां’गी है। न्यू इंडियंस एक्सप्रेड की खबर के मुताबिक,हसलू मोहम्मफ और आचिट्य बिस्वा’स छह साल पहले दोस्त बने थे।जब वो छोटी सी वित्त कम्पनी के एजनेट के रूप में काम करते थे।

दो साल पहले हसलू ने नोक’रीं छो’ड़ दी और खु’द का व्यव’साय को शुरू किया। वक्त के साथ दोनों में ही गह’री दोस्ती हो गई।जब हसलू को इस बारे में पता चला कि उसका जिगरी दोस्त प’रेशा’न है तो हसलू ने अपने दोस्त की मदद की। उन्होंने कहा कि जब मेंके सुना कि

मेरे दोस्त को किड’नी की ज’रूरत है तो मैंने फैसला किया कि मै उसको कि’डनी दा’न करता हूं। ऐसा करने से मैं नही मरूंगा लेकिन आदित्य को एक नया ज़िंदगी मिल जाएगी।धा’र्मिक सम्मान के बारे में जब हसलू से सवाल किया गया तो उन्होंने कहा कि

मा’नव जींवन सबसे कीमती है। उन्होंने सबसे बड़ी बात कही हमारा ध’र्म अलग हो सकता है लेकिन हमारा ब्ल’ड ग्रुप एक ही है। उनकी पत्नी ने भी हसलू का साथ दिया।अभी हसलू और पत्नी मनोरा के दो बेये है। एक बेटा 5 साल का तो दूसरा बेटा 7 साल का है।

Leave a Comment