ओडिशा की इस मुस्लिम महिला ने रचा इतिहास, देश-दुनिया से मिल रही बधाईया

हाल के दिनों में मुस्लिम महिला भारत मे ही नही बल्कि दूसरे देशों में भी देश का नाम रोशन कर रही है। हालही में ओडिशा के भद्रक नगर पालिका चुमाव में निर्दलीय उम्मीदवार 31 वर्षीय गुलमकी दलावजी हबीब ने अपने विपक्ष में खड़ी हुई स्मिता मिश्रा को 3,256 मतों से हराकर जीत को हासिल किया है।

स्मिता मिश्रा हाल ही में राज्य में सत्तारूढ़बीजू जनता दल की उम्मीदवार थी। हाल ही में हुए चुनाव में ओडिशा के चुनावी ईतिहास में अल्पसंख्यक समुदाय के लिए बहुत ही ज्यादा महत्वपूर्ण बात है। जिसमे मतदाताओं ने पहलीं बार किसी शहरी स्थानीय निकाय के अध्यक्ष के रूप में

मुस्लिम समुदाय की एकमहिला को सीधे तौर पर चुना है। उनके पति शेख जाहिद हबीब भद्रक जिले के BJDI उपाध्यक्ष है। जानकरी के मुताबिक बता दे कि भद्रक जिले में मुस्लिम आबादी बहुत ही ज्यादा है। इसलिए इस सीट से अल्पसंख्यक समुदाय के उम्मीदवार को नगर निकाय

अध्यक्ष के उम्मीदवार के रूप में उतारने की मांग की गई थी। यह पद महिलाओ के लिए आरक्षित था।शुरू में माना जा रहा था कि गुलमकी हबीब के लिए यह चुनाव आसान नही होगा क्योकि भद्रक साम्प्रदायिक तनाव का इतिहास रहा है। उन्होंने मीडिया से बात करते हुए कहा कि लोगो ने मुझे अपनी बेटी की तरह माना है।चाहे वह किसी भी स’मुदाय से हो।

साल 1984 से 1990 तक 6 साल में के केंद्रपाड़ा नगर पालिका के अध्यक्ष रहे मोहम्मद अकबर एली बताते है कि ओडिशा के चुनाव के इतिहाज़ में यह पहलीं बात हुआ है। यह बहुत ही ज्यादा खुशी की बात है।

Leave a Comment