निखत ज़रीन को अब मिलेगा इंसाफ़ ? गोल्ड मेडलिस्ट अभिनव बिंद्रा भी आए साथ, बोले – मैरीकॉम को …

इन दिनों निखत जरीन सुर्खियों में बनी हुई है । आखिर ये जरीन है कौन, आइये जानते है । मुक्केबाज में मशहूर निखत जरीन का जन्म 14 जून 1996 को तेलंगाना में हुआ। यह भारतीय खिलाड़ी है। इन्होंने एशियन चैम्पियनशिप बंगलोर से जीता है। ओलंपिक खेल पहली बार 1896 में आयोजित किया गया था। यह खेल चार साल के बाद खेला जाता है। अंतराष्ट्रीय ओलंपिक समिति खेल का आयोजन करती है।

यह खेल गर्मियों में खेला जाता था। लेकिन अब खेल सर्दियों में खेला जाने लगा है। ओलंपिक खेल 2020 में 24 जुलाई से 9 अगस्त के बीच खेला जाएगा। यह खेल टोक्यो, जापान में होना है।ओलंपिक को लेकर खासकर महिला मुक्केबाज़ी को लेकर भारत मे विवाद बढ़ रहा है। भारतीय टीम में चयन प्रकिया को लेकर एक महिला मुक्केबाज निखत जरीन खेल मंत्रालय तक पहुँच गई है।

इस मुद्दे पर उनका समर्थन भारत के इकलौते ओलम्पिक व्यक्तिगत जो गोल्ड मेडल जीत चुके है। अभिनव बिंद्रा ने किया है। उन्होंने भारतीय टीम का चयन करने से पहले निखत जरीन की मुक्केबाजी एम सी मैरीकॉम के खिलाफ ट्रॉयल की मांग की है।लेकिन ट्रॉयल की मांग भारतीय मुक्केबाजी महासंघ ने ठुकरा दी। उन्होंने खेल मंत्री किरण रिजीजू को पत्र लिखकर ओलंपिक क्वालीफायर के लिए टीम में जगह पाने का उचित मौका दिए जाने की मांग की है।

अभिनव बिंद्रा ने जरीन का सपोर्ट करते हुए ट्विटर पर लिखा कि ‘मैरीकॉम का मैं पूरा सम्मान करता हूं, लेकिन खिलाड़ी को अपने सबूत बार बार देने पड़ते हैं।’निखत जरीन ने कहा कि हम आज भी कल की तरह खेल सकते है। कल से बेहतर और आने वाले कल से बेहतर। खेल में बिता हुआ कल मायने नही रखता है।

जरीन ने बहुत ही बेहतरीन तरीके से अपनी बात के हौसले को आगे बढ़ाया है। जो कि एक खिलाड़ी के लिए बहुत ही अहम है।आपको बता दे कि बिंद्रा और जरीन दोनो जेएसडब्ल्यू से जुड़े हुए है। मैरीकॉम ने 51 किलो वर्ग में चैम्पियनशिप में कांस्य पदक जीता। बीएफआई अब उन्हें चीन में ओलम्पिक क्वालीफायर भेजना चाहता हैं।

Leave a Comment