एक साल बाद खुलेगा दिल्ली तब्लीगी जमात का मरकज, 50 लोग पढ़ सकते है नमाज

करीब एक साल बाद फिर से दिल्ली के नि’जामुद्दीन म’रकज को खोला जाएगा । केंद्र सरकार ने ने बुधवार को दिल्ली हाई कोर्ट में इस दिल्ली मर’कज को खोलने की सशर्त मंजूरी की पेश’कश की । केंद्र ने कहा कि आने वाले त्योहारी दिनों में यानी रमज़ान माह में नि’ज़ामुद्दीन मरक’ज में 50 लोग नमा’ज अदा कर सकेंगे ।

उन्होंने कहा कि उन 50 लोगों के नाम क्षेत्र के SHO मो प्रदान किए जाए । बता दे, इन 50 लोगों का चयन भी व’क़्फ़ बोर्ड करेगा । निज़ामुद्दी’न मर’कज को खोलने वाली याचि’का पर सुनवाई के दौरान केंद्र सरकार द्वारा न्याय मूर्ति मुक्ता गुप्ता के समक्ष यह बात कही । आपको बता दे,दिल्ली निज़ामुद्दीन स्थित मरक’ज पिछले साल 31 मार्च से ही बन्द है ।

Nizamuddin Markaz Reopen

केंद्र सर’कार की ओर से अधि’वक्ता रजत नायर ने अदालत को बताया कि दि’ल्ली वक़्फ़ बोर्ड को क्षेत्र के पुलिस थाने के प्रभारी SHO को 50 लोगों के3 नाम देने होंगे । इसके बाद ही उन 50 लोगों को नमाज़ अदा करने के लिए मस्जि’द में प्रवेश करने की अनुमति दी जाएगी ।

वक़्फ़ बोर्ड की ओर से अधिवक्ता रमेश गुप्ता ने अदालत से आग्रह किया था कि 13 अप्रैल से शुरू हो रहे रमज़ा’न के पवित्र महीने सेपहले इस पर फैसला किया जाए । उन्होंने कहा कि रमज़ान के पाक माह में ज्यादा से ज्यादा लोग मस्जिद में नमाज अदा करने आते है । इसके बाद अदालत ने मामले को 12 अप्रैल को सुन’वाई के लिए सूचीबद्ध किया गया ।

Nizamuddin Markaz Reopen

बोर्ड ने दलील में।कहा था कि अनलॉक 1 दिशा निर्देशों के बाद भी निषिद्ध क्षेत्र से बाहर धा’र्मिक स्थ’लों को खोलने की अनुमति दी गई जबकि मरकज अभी भी बन्द है । इसमें उन्होंने मस्जिद बंगले वाली, मदर’सा का’शिफ उल उलूम और छात्रावास भी शामिल है ।

Leave a Comment