अंतरिक्ष साइंस में UAE ने रचा एक और इतिहास, अरब देशों की पहली महिला अंतरिक्ष यात्री को चुना

स्पेस साइंस के क्षेत्र में यूएई एक सुनहरे दौर की कहानी लिखता जा रहा है। पिछले साल मंगल ग्रह पर भेजने वाला वह अरब देश बन गया है। इसके अलावा अब एक उपलब्धि भी हासिल करने वाला है।देश ने अपनी पहली महिला एस्ट्रोनॉड को चुनाहै।

नोरा अल मतरुशी को मोहम्मद अल मुल्ला के साथ एस्ट्रोनॉड चुना गया है। इतना ही नही नोरा को 4 हजार लोगों के बीच मे से चुना गया है।बता दे कि एमिरेट्स एस्ट्रोनोड्स प्रोग्राम के दूसरे बैच से ग्रेजुएट हुई। 28 साल की नोरा अब अमेरिका स्पेस एजेंसी NASA के एस्ट्रोनॉड के साथ ट्रेनिंग शुरू करेगी।

Nora AlMatrooshi

इस बारे में यूएई के उपराष्ट्रपति और शाशक हिज हाइनेस शेख मोहम्मद बिन रशिद अल मकतूम ने इस बात का एलान किया है। खलीज टाइम्स ने अपनी रिपोर्ट में बताया है कि 1993 में जन्मी नोरा की बचपन से ही स्पेस और एस्टेनोमी में दिलचस्पी थी। वह स्यारगेजिंग इवेंट्स में भी जाया करती थी।

आपको बता दे कि यूएई यूनिवर्सिटी से मैकेनिकल इंजीनियरिंग की डिग्री लेने के बाद वह अमेरिकन सोसाइटी ऑफ मेकेनिकल इंजीनियर्स की सदस्य भी रही है। उन्होंने 2011 में मैथ ओलंपियाड में पहला स्थान हासिल किया था। वह नेशनल पेट्रोलियम कंस्ट्रक्शन कम्पनी में इंजीनियर थी। इसके अलावा नोरा कम्पनी की युवा परिषद की 5 साल तक उपाध्यक्ष भी रही है।

Nora AlMatrooshi

उन्होंने कई साल तक वोलोइन्टर के तौर पर साइंस की फील्ड में काम भी किया है। उम्मीद है कि यूएई का मिशन होपदेश के स्पेस साइंस में और आगे जाने की होप पर खरा उतरेगा। यूएई 2024तक चांद पर मानवरहित विमान भी भेजना चाहता है।

Leave a Comment