ट्युशनिया की लड़की ने सबसे कम उम्र में बनी कुरान हाफिज, किया गया सम्मानित और मिला ये इनाम

कु’रा’न श’री’फ मु’स्लि”म समुदाय के लोगो की एक पाकी’जा औऱ जिं’दगी के उसू’लों पर च’लने वाली कि’ताब है। यह कुरा’न शरी’फ हर मु’स्लि’म शख्स इसको पढ़’ता भी है और कुछ लोग इसकी डिग्री को हासिल करने के बाद कु’रान ए हि’फ़्ज़ भी किया करते है।

इ’स्ला’म ध’र्म मे कई तरह की पा’बन्दि’यों के साथ साथ ही बन्दों को कई बाते भी सिखाई जाती है। ट्यूनी’शिया की रहने वाले सबसे कम उम्र की एक लड़की ने कु’रान ए पा’क को हि’फ़्ज़ कर लिया है। ट्यूनी’शिया में राष्ट्रीय महिला दिवस के रुप में लड़कियी ओर महि’लाओं को सम्मनित किया गया

quran hifz

तो उन महिअलो की गिनती में एक कम उम्र की लड़’की को भी सम्मानित किया गया। इस लड़’की का नाम मरि’यम उस्मानी है। जो ट्यू’नीशिया प्रांत के तुजर के दकश शहर की निवासी ने अपने टीचर के मुताबक और उनके मार्गदर्शन में ही कुरा’न पा’क को हि’फ़्ज़ किया है।

इसी के साथ ही म’रयम उस्मा’नी बहुत से खल, संगी’त ओर गणि’त में भी बहुत ज्यादा प्रतिभा’शाली है।कु’रान श’रीफ में सभी तरह की बातों को बताया गया है। यह किताब रम’जा’न केपा’क मही’ने में ना’जिल हुई। इस कि’ताब में बताया गया है कि कभी भी लड़ाई मत करो।

quran hifz

हम सभी आद’म ह’व्वा की औ’लाद है।इस्ला’म नाम किसी ध’र्म का होने के साथ साथ ही भाई’चारा, मो’हब्बत, इंसानि’यत ओर खिद’मत का भी नाम है। इस्ला’म ध’र्म किसी का भी दिल दुखने की इ’जाजत नही देता है।इस्लाम धर्म मे 5 वक्त की नमाज पढ़ी जाती है। जिसमे मस्जि’दों में 5 वक्त की अजान दीजाती है। हज ओर उम’राह किया जाता है।

Leave a Comment