बिहार की रजिया सुल्ताना बनी पहली मुस्लिम DSP, पहले ही प्रयास में हासिल की सफलता, जानिए

बिहार लोक सेवाआयोग की 64वी संयुक्त प्रतियोगी परीक्षा के नती’जे हाल ही में घोषित किए गए है। इस परीक्षा को ना केवल पास करके डीएसपी बनने वाली मु’स्लिम समाज से आने वाली रजिया सु’ल्ताना ने इतिहास रच दिया है। रजिया ने यह कारनामा बीपीएससी परीक्षा की अपनी पहली ही कोशिश में कर दिखाया है।

बता दे, रजिया सुल्ताना फिलहाल बिहार सरकार के बिज’ली विभाग में कार्यरत है लेकिन जल्द ही वो इस सर’कारी नोक’री को छो’ड़कर अब खाकी वर्दी में नजर आएगी। बीपीएससी परीक्षा में कुल 40 अभ्यर्थियों का डीएसपी के रूप में चयन किया गया है। जिसमे 4 मु’स्लिम है। इन्ही 4 अभ्यर्थि’यों में एक रजिया सुल्ताना का नाम भी शामिल है।

Razia Sultana DSP
Razia Sultana DSP

27 साल की रजिया सुल्ताना बिहार के गोपालगंज जिले के हथुआ की निवासी है लेकिम उनकी पढ़ाई झारखंड के बोकारो स्टाइल प्लाय में स्टेनिग्रफर बोकारो में हुई जहा पर उनके पिता असलम अंसा’री ‘बोक’री स्टी’ल प्लां’ट में स्टेनोग्राफर के रूप में भी कम करते थे । रजिया के पिता का इंत’का’ल हो गया है और उनकी माँ बो’कारो में ही रहती है।

रजिया ने मीडिया से बात करते हुए बताया है कि उसे लीक सेवा आयोग में नोकरी करने का बहुत ज्यादा सपना था उन्होंने इस स’पने को कभी भी समाप्य नही किया। साल 2017 में उन्होंने बिहार में बि’जली विभा’ग में नो’करी को शुरू भी कर दिया । 2018 में बीपी’एससी की प्रारंभि’क परीक्षा दी और फिर साल 2019 में मेंस परीक्षा में पास किया।

Razia Sultana DSP
Razia Sultana DSP

इसके बाद उन्होंने इंट’रव्यू को पास किया।इस सा’ल घोषि’त हुए नतीजो में डीए’सपी पद पर उनका चयन किया गया है। इस साल के घिषित हुए नतीजो में बीपीएसी में 89 मुस्लिम केन्डि’डेड ने अपना नाम इतिहाज़ मे रच दिया है। इसके अला’वा भी जमि’या कोचिंग के 16 वि’धायर्थियो ने भी अपना नाम किया है। जिनमे 6 लडकिया भी शामि’ल है।

Leave a Comment