सऊदी अरब ने रूस के साथ मिलकर शुरू किया अंतरिक्ष मिशन, अमेरिका को पीछे छोड़ने की हे तैयारी

खा’ड़ी दे’शो की खब’रो की माने तो कुछ क्षे’त्रों में रू’स और स’ऊदी अर’ब दोनो देशी की खा’सी दो’स्ती हो गई है। रू’स स’ऊदी अर’ब के अंत’रिक्ष यात्रि’यी को प्रशिक्षित भी दे रहा है। रूसी उप प्रधा’न मंत्री एलेक्जेंडर नोवाक ने इस बात की जानका’री बीते दिनी ही दी है। दरअसल दोनो दे’श एक सं’युक्त मान’व अंत’रिक्ष मिशन कि भी तैया’री करने में जुटे हुए है।

रोस्को स्मोस अंतरिक्ष एजेंसी ने अप्रैल में कहा था कि साल 2030 तक इसे कक्षा में लॉन्च करने के उद्देश्य से अपना खुद का अंतरिक्ष स्टेशन बनानां भी शुरू करनेके लिए भी तैयार है। अगर राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन इस बात को लेकर आगे बढ़ते है। बता दे कि यह परियोजना रूसीअंतरिक्ष

russia and saudi arabia space mission

के लिए भी एक नया अध्यय खोलेगी और अंत’रास्ट्रीय अंत’रिक्ष स्टे’शन पर संयु’क्त राज्य अमेरि’का के साथ चले आ रहे दो दश’कों से भी अधिक समय से पक्के सहयोग का भी अंत कर देगा।बता दे कि खाड़ी देशों में संयुक्त अरब अमीरात ने पहले ही अपना अंतरि’क्ष का’र्यकम

को शुरू कर दिया था। हाल ही में यूएई नेदो अंतरि’क्ष यात्रि’यों के नाम की भी घोषणा की है। इनमे एकमहिला नोरा अल मतोशी का नाम भी शामिल ह। जो देश की पहली अं’तरिक्ष यात्री म’हिला भी होगी। इसके अलावा दूसरे अंत’रिक्ष यात्री का नाम मोह’म्मद अल मुल्ला है ।

russia and saudi arabia space mission

बताते चले कि इससे पहले साल 2019 में हज्जा अल मंसूरी अंतरि;क्ष मे जाने वाले यूएई के पहले शख्स बने थे। वह 8 दिनके अपने मिश’न के बाद अंतरा’स्ट्रीय अं’तरिक्ष स्टेशन परभी पहुँच गए थे। यू’एई कि ऐसे कई योजना’एं भी है।

Leave a Comment