अमेरिकी धमकियों के बावजूद तुर्की ने खरीदा S-400 मिसाइल सिस्टम, लेकिन भारत की टेंशन बढ़ा गए अमेरिकी रक्षा मंत्री

बीते एक दशक में भार’त और अमे’रिका के बीच कई सम्बन्धो में मजबूती भी आई है। लेकिन ऐन यही मज’बूती कही न कही भारत की टेंशन भी बन गई है। हाल ही में अमेरिका र’क्षा मं’त्री लॉयंड ऑस्टिन ने भारत की यात्रा भी की थी।

इस दौरान उनकी अपनी सम’क्षस रक्षा मंत्री समेत राजनाथ सिंह और पीएम मोदी से कई मुद्दों पर बात’चीत भी हुई थी । दरअसल यह टें’श’न बढ़ाने का मुद्दा ऑ’स्टिन के उस बयान से आया है जब जिसमे उन्होंने साफतौ’र पर कहा है कि अमेरिका ने अपनेसभी सह’योगी देशों से रूसी तक’नीक न खरीदने के लिए कहा है । ले

latest us india news

किन जब उनसे यह सवा’ल किया गया कि लय अमेरिका इस सौदे को लेकर तुर्क की तरह भारत पर भी प्रति’वंध लगा सकता है तो उन्होंने कहा कि भारत को अभी तक इसकी स’प्लाई नही हुई है। इसलिए भारत और प्र’तिब’न्ध लगाने का स’वाल नही उठता है।

ऐसे में यह सवाल और जवाब इसलिए बेहद है क्योंकि अमेरि’का ने तुर्की पर इसे देखते हुए प्रतिबन्ध को लगा भी रखा है । तु’र्की ने साल 2017 में ये सौदा भी किया था। रूस और भारत के बीच एस 400 के40 हजार करोड़ के सौदे का करार साल 2016 में ब्रिक्स सम्मे’लन के दौरान भी हुआ था। जिस पर साल 2018 में औपचारिक रूप में रूस ने मोहर भी लगा’ई थी।

रू’स की बनाया गया एस 400 मि’साइ’ल डिफेंस सिस्टम दुनिया की आधु’नि’क तक’नीक में से एक है। यह सि’स्टम हवा में 400 किमी के दायरे में आने वाली दु’श्म’न की किसी भी मि’सा’इल को मा’र सकने में सक्ष’म है।

Leave a Comment