सऊदी अरब ने 15 साल बाद बदला ये नियम, खफा हुए लोग

र’मजा’न के पाक महिनी चल रहा है। रो’जे रखने वाले बच्चे भी शामिल हो चुके है। रमजा’न में 7 साल से ज्यादा उम्र के बच्चों को भी फर्ज है। एक ऐसा ही वा’किया दुबई में देखा गया है। उसने अपनी बी’मा’री कें’सर को म’त दे चुके है।

5 साल के बच्चे से अपना रो’जा रखा है। इसका नाम मोह’म्मद ना’सिर है। नासिक को देखकर उनके परि’वार को हैरान भी है। दुब’ई का रहने वाला यह ब’हादुर बच्चा जो सर्ज’री की मा’ध्यम से कें’सर की जंग को जीत चुका है। उसने इस ऐ’मजॉन में रोजे रखे है।

दुबई के सीनियर क्रेजी छात्र मो’हम्मद नासिक ने बताया है कि उसे रो’जे रखना बहुतपसंद है। बता दे कि अब्दुल सम’द और सना जाबेद को ब्बते को 18 महिनी का था तब से पेटो’ब्ला’स्टोमा का पता चला था।

जो बच्चो में सबसे ज्यादा आम कैं’स’र है। जब वह महज 18 महिनी का था। लतीफ और दुबई के अस्प’ता’लों में इ’लाज के लिए भ’र्ती हुए नासिक ने साल 2017 के बेहतर हिस्से की की’मोथे’रे’पी के चार च’क्रों से गुजरा था इसके बाद उसकी स’र्ज’री भी हुई थी।

उनके माता और पिता ने बताया है कि नासिक ने साल 2017 का अपना ज्यादा वक्त हॉ’स्पि’टल में ही गुजरा है। लेकिन वह क’भी भी न’ही रो’या और उसने कभी किसी को परे’शा’न नही किया।

Leave a Comment