सऊदी अरब ने OIL वाॅर में रूस को किया था चारों चित्त, अब सऊदी को लगा बड़ा झटका, अरब में संकट

सऊदी अरब में बड़ी तादाद में तेल की कुँए है। यहां पर तेल का उत्पादन बड़ी मात्रा में होता है। 2018 और 2019 में सऊदी अरब दुनिया मे सबसे ज्यादा Oil निकालने वाला देश बना था । अब दुनिया भर में तेल उत्पादन करने वाले देशों की जिन्होंने 2020 के कुछ महीनों की रिपोर्ट्स सामने आई है । रिपोर्ट्स के मुताबिक 2020 में सऊदी अरब को तेल के मामले में रूस ने पीछे छोड़ दिया है।

आपको बता दे कि, इसी साल मार्च के महिनी में सऊदी अरब और रूस में तेल की कीमतों को लेकर तनातनी हुई थी। सऊदी अरब चाहता है कि रूस तेल का उत्पादन कम करें । इससे अंतराष्ट्रीय बाजार में तेल की गिरती कीमतों को सम्भला जा सके। लेकिन रूस तेल का उत्पादन कम करने को तैयार नही हो रहा ह।

saudiarab russ oil news

इकोनॉमिक्स टाइम्स रिपोर्ट के मुताबिक, सऊदी कम्पनी ने तेल की कीमतों की वजह से चीन के साथ हुई इस डील को टालने के फैसले किया है । बीबीसी की रिपोर्ट के मुताबिक, रूस की वजह से सऊदी अरब ने भीतेल की कीमतों में छूट देकर बेचने का फैसला किया है। सऊदी अरब ने यह फैसला तब लिया है जब कोविड 19 की वजह से सारे कारोबार ठप हो रहे है। दोनो देशो एक दूसरे पर कीमतों में गिरावट के लिए इल्जाम लगा रहे है।

बता दे कि रूसके सरकारी टेलीविजन सऊदी अरब को अपनी मुद्रा रूबल में आई गिरावट के लिए जिम्मेदार बता रहे थे। सऊदी अरब ने भी अब पलटवार करने का फैसला किया है। बीते महीने 1 अप्रैल को सऊदी की राष्ट्रीय तेल कम्पनी अरामको ने कहा है कि वो हर दिन एक करोड़ 20 लाख बैरल तेल उत्पादन करेगा।

saudiarab russ oil news

यह रूस से हुए समझौते की तुलना में 26 फीसदी ज्यादा था। सऊदी अरब को लगा था कि वो रूस के साथ प्राइस वॉर में खुद बादशाह साबित कर लेगा।

ऑर्गेनाइजेशन ऑफ द पेट्रोलियम एक्स्पोर्टिंगकंट्रीज यानी ओपेक में सऊदी का दबदबा सबसे ज्यादा है। मार्च महीने में सऊदी अरब ने ओपेक के जरिए कोविड 19 के वजह से तेल की मांग में आई भारी कमी को कारण तेल उत्पादन में कटौती का भी प्रस्ताव रखा था।

saudi arabia news latest

बता दे कि रिस्ताद एनर्जी के अनुमान के मुताबिक, रूस में तेल 256 अरब बैरल, सऊदी में 212 अरब बैरल, कनाडा में167, ईरान में 143 औऱ ब्राजील में120 अरब बैरल तेल है।

Leave a Comment