सिखों ने मस्जिद के लिए जमीन देकर क़ायम की एकता की मिसाल, सिख बोले – सभी इंसान एक और …

उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर जिले में धर्मिक सद्भाव की मिशाल पेश करते एक सिख व्यक्ति ने गुरुनानक देव के 550 वे प्रकाश पर्व के पवित्र महीने के दौरान एक मस्जिद के लिए जमीन दान की। इस गांव के सरपंच सरजीत ने बीबीसी हिंदी से बातचीत में कहा कि हमें मुसीबत के समय मस्जिद में शरण मिली थी इसलिए हम इसकी इज़्ज़त करते है। उन्होंने कहा कि हमारे गुरु ने कहा है कि सभी इंसान एक है।

उन्होंने ये भी कहा कि मैं पाकिस्तान पैदा हुआ हु। साल 1947 में पाकिस्तान से आकर भारत के इस गांव में बस गए थे। उन्होंने कहा कि ये मस्जिद बटवारे के समय से पहले से है। उन्होंने कहा कि बटवारे से पहले सिख भारत आ गए और मुस्लिम पाक चले गए। इस गांव में बटवारें के बाद कुछ मुस्लिम यही रुके रहे लेकिन अब यहां सिख बहुसंख्यक में है। बता दे, सिख समुदाय में गुरुनानक देव की जयंती मनाई जाती है। इनका सबसे बड़ा पवित्र स्थान अमृतसर में है।

वहा पर लाखों लोग दर्शन के लिए आते है।इंडिया टीवी डॉट कॉम के पर छपी खबर के अनुसार , सामाजिक कार्यकर्ता सुखपाल सिंह बेदी ने जिले में पुरकाजी शहर में एक कार्यक्रम में यह ऐलान किया है। उन्होंने नगर पंचायत के अध्यक्ष जहीर फारुखी को 900 वर्ग फुट प्लॉट के लिए जमीन के दस्तावेज सोंप दिए। पुरकाजी शहर में एक बड़ी आबादी मुसलमानों की है। वहा के लोगो के लिए एक बहुत बड़ी मस्जिद तैयार की जाएगी।

बेदी ने सभी लोगों से समान और आदर के साथ व्य’वहार करने की गुरुनानक देव की शिक्षाओं का हवाला देते हुए कहा कि वह शांति और सा’म्प्र’दा’यिक सौ’हार्द्र का सन्देश देना चाहते है। दोनो समुदाय के लोगो ने भाईचारे को बढ़ावा देने के लिए इस पहल का स्वागत किया है। आपको बता दे, सिख समुदाय का मुसलमानों के प्रति नरम रवैया रहा है , इसके पीछे की वजह बाबा फरीद बताया जाता है ।

आपको बता दे, बाबा फरीद को सिख समुदाय काफी मानता है और सुन्नी मु’स’लमानों में बाबा फरीद गंज श’कर र’ह’म’तुल्लाह अलैहि का बड़ा मक़ाम है । बाबा फ’रीद , हज़रत ख़्वा’जा गरी’ब न’वाज रह’मतुल्लाहि अ’लेही के पहले के समय से है । यह सूफी सिलसिले से ताल्लुक रखते है । यही वजह है कि सिख समुदाय का एक धड़ा मु’स’ल;मानों से क्लबी तौर पर जुड़ा हुआ रहता आया है। हमें समय समय पर सिखों की बहादुरी के चर्चे भी होते रहते है।

Leave a Comment