तब्लीगी जमात पर आपत्तिजनक कवरेज करना समाचार चैनलों को पड़ा भारी, कोर्ट ने लगाया जुर्माना और ….

पिछले साल दे’श मे को’रोना महा’मारी के बीच मरक’ज पर गै’र जि’म्मे’दा’राना तरि’के से न्यू’ज़ चैन’ल द्वारा चलाए गए समा’चारों कोलेकर एनबी’एसए ने कड़ी का’र्यवही की है। एनबी’एसए ने 3 समा’चार चै’नलों पर कार्य’वाही करते हुए 1 लख रुपए का जुर्मा’ना भी लगाया है। इन समा’चार चैन’लों की तरफ से तबलीग जमा’त पर को’रो’ना फै’लाने का आरो’प भी लगा’या गया था।

न्यूज़ ब्रॉड’कास्टिंग स्टैंड’र्ड अथॉ’रिटी ने यह कार्यवाही की है। उन्होने दर्श’को से मा’फी मां’गने के लिए भी कहा है।एनबीएसए ने कहा है कि तब्लीगी जमात के लोगो पर रिपि’र्टिंग बेह’द ही ज्यादा आप’त्यि’जनक थी और समा’चार चैन’लों पर दिखाए गए कार्य’क्रम की भषा भी बहुत ग’ल’त थी। इस घ’टना की भा’षा बहुत ही ज्यादा भ’ड़का’ऊ थी।

tabligi jamat


उन्होंने आगे कहा है कि एक धा’र्मि’क स’मू’हों की भा’व’नाओ की प’रवा’ह किए बगै’र सभी सीमाओं को पार भी किया है। इसका उद्दे’श्य समु’दायों के बीच न’फर’त को ब’ढ़ा’वा देना और स’माज के लोगो के बीच भ’ड़का’ना भी शामिल है।बता दे कि बीते महीने पहले ही त’ब्लीगी मर’कज में शामिल हुएन14 देशों के सभी 36

वि’देशि’यों को आ’ख़िर’कए दिल्ली की को’र्ट ने भी ब’री कर दिया था।बता दे कि त’ब्ली’गी जमा’त एक मु’स्लि’म समु’दाय के लोगो का एक इ’स्ला’मिक धर्म प्र’चार है। इस ज’मात के लोग गांव गाँव, शहर शहर और हर घर जाकर लोगो के बीच

tabligi jamat

कुरा’न श’रीफ और हदीस की सही जानकारी भी देते है। इसके अलावा नमा’ज के बारे में भी बताते है।इसकी शुरुआत 1926 और 27 में भारत से हुई थी। इसका मुख्यालय दिल्ली के मर’कज निजामु’द्दीन में है।

Leave a Comment