2023 से पहले तुर्की ने समुद्र में बढ़ाई ताकत, युध्दतोप बनाने वाले विश्व के टाॅप-10 देशों में शामिल

तुर्की और यूएई के बीच सम्बन्ध हाल ही के दिनों में रि’श्ते खरा’ब होते हुए दिख रहे है। तुर्की और यूएई एक दूसरे के खि’ला’फ खड़े दिखाई दे रहे है।तुर्कि के राष्ट्रपति सदर तैयब एर्दोगान ने बीते दिन ही कहा है कि तुर्की ने र’क्षा उद्योग में अपना रास्ता जारी कर रखा है। तुर्की के राष्ट्रपति ने इस बात का जिक्र इस्तंबूल के तुर्की महानगर में डेसन शिपयार्ड में न्यू मरीन सिस्टम्स समारोह में कहा है।

रास्ट्रपति ने कहा है कि तुर्की ने दो आपा’तका’लीन प्रतिकिर्या और गोता’खोरी प्रशिक्ष’ण नोका’ओ, दो नए पानी के नीचे नावों और आठ तेज गश्ती नोकाओ को अपने नोसेनिक बलो के साथ मे जोड़ा है। उन्होंने कहा है कि रक्षा उद्योग एक ऐसा क्षेत्र है जो ठहराव को संभाल सके।इसके अभी और ज्यादा उन्नत उत्पादों का उत्पादन होना चाहिए।

turkey warships

एर्दोगान ने आगे कहा है कि तुर्की पूर्वी भूमध्य’सा’गर से एजियन तक , काला सागर से बाल्कन, काकेशस और अफ्रीका तक अपनी नीतियों को लागू कर सकता है। उन्होंने आगे बताया कि तुर्की शीर्ष 10 देशो में से एक ऐसा देश है जोअपनी यु’द्ध’पोतों को डिजाइन और उत्पादन कर सकता है।

अंकारा तुर्कीऔर उसके सहयोगी देशों के अधिकारी की र’क्षा करना चाहता है क्योंकि यह तुर्की के सह’स्र ब’लों को बेहतर उपकर’णों से लै’स करता है। उन्होंने कहा है कि तु’र्की की र’क्षा उद्योग की परियोजनाओं का बजट बढ़कर60 अरब डॉलर हो गया है।तु’र्की ने हाल ही में काले सागर से अपना प्राकृति’क गैस का भंडार खोजा है। इससे तुर्की और ग्रीस के बीच वि’वा’द ब’ढ़ रहा है।

turkey warships

तुर्की ने पिछले दिनों ही घोषणा की थी कि वो वो ग्रीस के क्री’ट द्वि’प के पास ही अपना अभ्या’स करेंगे। तुर्की ने घोषणा की थी वो अपना अभ्यास 27 तक जारी रखेगा।ग्रीस के साइ’प्रस के पास वि’वा’दि’त ज’ल’क्षे’त्र में ते’ल और गै’स के भंडार मिलने के बाद ही दोनो देशो में त’ना’व बढ़ गया है।

इसे लेकर ग्री’स का मानना है कि तुर्की’ सर्वे जहा’ज से उसकी महाद्वीप जलसी’मा का उल्ल’घं’न कर रहा है। ग्रीस का द्विप कास्टे’लॉ’जिलो तुर्की के तट से सिर्फ दो किलोमीटर दूर है। इसे लेकर यूएई भी तुर्की के खिला’फ उतर आया है।

turkey warships

यूएई ने ग्रीस की हेलेनिक एयर फोर्स के साथ संयुक्त अभ्यास करने के लिए चार फाइटर F16 भेजे है। तुर्की ओर ग्रीस दोनो ही नाटो के सदस्य है। तुर्की ने हाल ही में रूस से S400 मिसाइल सिस्टम प्रणाली दूसरी बेच खरीदने पर भी सहमति जताई है। तुर्की ने इस मि’सा’इ’ल को ले भी लिया है।

Leave a Comment