गुजरात के 35 गाँवो के गरीबों, मजदूरों के लिए मसीहा बने नसरुल्लाह खान, 1 करोड़ से अधिक का बांटा राशन और …..

गुजरात के वलसाद जिले से ताल्लुक रखने वाले 40 वर्षीय न’सरूल्ला आर खा’न ने अपने जिले के 35 गावों गरीब जरूरतमन्दो को राशन वितरित करने के लिए एक महीने मे करीब 1.10 करोड रूपये खर्च किये है । वापी जीआईडिसी मे इलेक्ट्रिक पैनल की युनिट चलाने वाले नसरूल्ला आर खान ने अब तक को’रो’ना डा’कडाऊन की वजह से गरीबी,बेबसी से जूझ रहे करीब 21,000 फे ज्यादा गरीब परिवारों को राशन वितरित किया है ।

पत्रिका की रिपोर्ट के मुताबिक नसरूल्ला आर खान उत्तरप्रदेश के सिद्धार्थ नगर से तालुलक रखते है । ओर गुजरात मे स्क्रेप ओर इलेक्ट्रिक कंट्रोल पैनल के उधोग से जुडे हुए है, उन्होने 7 साल की उम्र से वापी की भूमि पर रहकर मेहनत करके आज ये मुकाम हासील किया है ।बातचीत मे उन्होने बताया कि,लोकडाऊन होने के बाद गरीब ओर बेबस लोगो के भू’खे रहने की खबर जब अखबार,टीवी चैनल से पता चली तो रात भर सौ नही पाया,मै उनके हालातो को देखकर बहुत गम’जदा हुआ ।

इस उम्र मे उनके पास जो कुछ है वो इसे गरीब ,बेबस लोगो पर जिम्मेदारी मानते है इसलिए उन्ही ने मदद करने का फैसला लिया ओर गांव के सरपंच,स्थानिय लोगो के सहयोग से गरीबी को घर-घर जाकर गेहूं,राशन आदि वितरित किया ।उन्होने बताया कि इस मुहिम मे वार्ड नम्बर पांच के पार्षद मोहम्मद ईशा उर्फ बबलू भाई , करवड सरपंच देवेन्द्र पटेल, जिला पंचायत सदस्य भावना पटेल ओर डुगंना थाना प्रभारी आईपीएस आफीसर ओमप्रकाश जाट सहित कई अन्य पुलिस कर्मी,प्रशासन ओर लोगो का सहयोग मिला ।

इसके साथ ही वापी सेवा समिति के अबुल रजाई अजमेरी, युसुफ घाचीं का भी सहयोग मिला । उन्होने बताया कि तीसरे चरण की शुरूआत की घोषणा होते ही करीब 12,000 किट से ज्यादा तैयार किये गये। साथ ही बताया की अब तक करीब 155 टन चावल , 80 किलो गेहु , 32 टन दाल ओर बाकी अन्य रोजमर्रा के राशन वितरित किये गये ।

बता दे, क्रो’ना सं’कट के बीच म’जदूरों की मदद के लिए लगातार मु’स्लिम समाज के लोग देश भर में सामने आ रहे है । मु’स्लिम समाज के लोग मजदूरों को रास्ते मे खाना, पानी और जरूरत की सभी चीजें मुहैय्या करा रहे है ।जानकारी के लिए बता दे, देश के अलग अलग हिस्सों में लाखों मजदूर रहते है । बीते 2 महीने से करोना के कारण फैक्टरियों में ताला लगा है जिसके कारण मजदूर भू’खा म’रने पर मजबूर हो गया है ।

बता दे,को’रोना के कारण सबसे ज्यादा नु’कसान रोज की कमाई करने वाले मजदूरों का हुआ है जिनका रोज’गार तो छी’ना ही है इसके अलावा मजदूरों को अपने गाँव की ओर पला’यन भी करना पड़ा है । बिहार, यूपी, राजस्थान ,एमपी में बड़ी संख्या में मजदूर दूसरे राज्यो में रहकर वहां अपना जीवन ज्ञापन करते है लेकिन क्रोना की मार के बाद मजदूरवापस अपने पुराने घरों की ओर लौट रहे है ।

Leave a Comment