वसीम अकरम ने किया था गली क्रिकेट से सीधे अंतराष्ट्रीय डेब्यू,बने थे 500 विकेट लेेने वाले दुनिया के पहले तेज गेंदबाज,डायबिटीज को हराकर बने थे नं. 1

स्विंग के सु’ल्तान कहे जाने वाले पाकि’स्तान के पूर्व तेज गेंदबाज व’सीम अ’करम 3 जून को 54 साल के हो गए है। 3 जून 1996, को जन्मे इस धुरधार तेज गेंदबाज को दुनिया का सबसे तेज़ और सबसे बेस्ट लेफ्टआर्म पेसर कहती है। व’सीम ने 1984 में पा’किस्ता’न में ने’शन’ल टीम में चुना गया था उन्हीने एक भी फर्स्ट क्लास क्रिकेट मैच नही खेला था। उन्होंने अपने वनडे डेब्यू से कुछ दिन पहले पा’क दौरे पर आई .

न्यूज़ीलैंड टीम के खिलाफ प्रैक्टिस मैच में ही बोर्ड 11 के लिए फर्स्ट क्लास डेब्यू किया और पारी में 7 विकेट झटके।वसीम अकरम वनडे इंटरनेशनल में 500 विकेट लेने वाले पहले गेंदबाज है। वनडे में सबसे अधिक विकेट लेने वालों में से इनका रिकॉर्ड 6 साल तक रहा। बाद में श्रीलंका के मुथैया मिरलीधरन ने साल 2009 में उनका रिकॉड तोड़ा। कहा जाता है कि वसीम की किस्मत का ताला जावेद मियांदाद ने खोला था।

wasim

जावेद 1985 में लाहौर के एक स्टेडियम में नेट्स कर रहे थे। उन्होंने देखा कि एक लड़का बेहतरीन तरीके से गेंदबाजी कर रहा था। वो कोई और नही बल्कि वसीम अकरम थे, जिन्हें दुनिया के बल्लेबाजों को अपनी गेंदों पर नचाना था । मि’यां’दा’द ने उन्हें देखते ही वसीम को मौका दिया। कुछ दिन बाद ही पा’कि’स्ता’न को न्यूजीलैंड के दौरा करना था।

मि’यां’दा’द ने व’सी’म का नाम चयन समिति को दे दिया सलेक्शन कमेटी में इसको लेकर ब’वा’ल म’च गया। इसके बाद जावे’द ने चेयरमैन से बात की। पहले तो वो राजी न’ही हुए लेकिन बाद में वो मा’न’ गए। ‘व’सी’म के दौर में एक ऐसा समय मे आया है जब उनको लगा कि सब कुछ ख’त्म हो गया है। जब उनकी उम्र महज 30 साल थी।

तब उनको डायबि’टी’ज हो गई थी, उनकी आंखों की रो’शनी क’म होने लगी, लेकिन उन्होंने हा’र न’ही मानी।उन्होंने इसके बाद भी पा’कि’स्ता’न क्रि’के’ट टीम को अपना 7 साल का योगदान दिया। बता दे, क्रिकेट में इसी खिलाड़ी कम ही देखने को मिलने है ।

Leave a Comment